तीन महिलाओं ने चुराए 45 हजार रुपए, बहादुर बेटी ने पीछा करके तीनों को पकड़ लिया

अलवर जिले के बहरोड़ क्षेत्र में इन दिनों लगातार बैंकों में चोरी की घटनाएं बढ़ रही हैं।हालत यह है चोरी करने वाले बैंक के ग्राहकों को चकमा देकर शिकार बना रहे हैं।ऐसी ही घटना सोमवार को घटित हुई,जिसमें 3 स्त्रियों ने बैग में चीरा लगाकर रुपए निकाल लिए।लेकिन पीडि़ता के साथ आई बेटी की बहादुरी के कारण तीनों स्त्रियों को पकड़ कर पुलिस को सौंप दिया।
loading...
 पीडि़ता शेरपुर निवासी नीलम देवी ने बताया कि घर पर चल रहे मकान के काम के लिए सोमवार को उसने एसबीआई से 50 हजार रुपए निकाले।इसके बाद एसबीआई शाखा के पास ई-मित्र की दुकान पर दूसरे खाते में 5 हजार रुपए डालने गई तो वहां तीन स्त्रियों ने उनके 45 हजार रुपए निकाल लिए गए।

पीडि़ता ने बताया कि रुपए निकलने के कुछ देर बाद ही मालुम चला जिस पर बेटी पूजा यादव ने पास खड़ी स्त्रियों को देखा तो वो नहीं मिली।इसके बाद बाहर आकर उनको देखा तो ऑटो में बैठकर जा रही थीं।जिसका पीछा कर ऑटो में से तीनों को उतारा तो वो झगडऩे लगी।इस पर पूजा के शोर मचाने पर लोग जमा हो गए और पुलिस को जानकारी दी गई।जानकारी पर पहुंचे पुलिसकर्मियों ने तीनों को पकडकऱ थाने ले गए।
थानाधिकारी सुगन सिंह राठौड़ ने बताया कि पीडि़ता की पुत्री पूजा यादव ने मामला दर्ज कराया कि सोमवार को मां के साथ बैंक आई थीं।जहां से 50 हजार रुपए निकलवाकर बैंक के पास ई-मित्र पर दूसरे खाते में 5 हजार रुपए डालने के लिए पहुंची।ई-मित्र पर पास ही तीन स्त्रिया खड़ी हुई थीं। जिसमें से एक ने बैग में हाथ दिया इसका विरोध किया तो स्त्री ने कहा कि बैग की चैन खुली थी बंद की हैं।इसके बाद वहां से चली गई। 

उसकी बात पर सन्देह होने पर बैग को चेक किया तो उसमें रुपए नही थे।और बैग की साइड में चीरा लगा हुआ था। इसके बाद मामला समझ में आया कि उन महिलाओं ने ही रुपए निकाले हैं। इसके बाद उन स्त्रियों का पीछा कर लोगों व पुलिस की मदद से रुपए बरामद किए गए।थाना अधिकारी ने बताया कि पूछताछ में स्त्रियों ने ललिता, उपासना व तीसरी ने नाम करीना बताया और रामगढ़ जिला मध्य प्रदेश निवासी बताया हैं।