मां ने दिया 8 महीनें के बेटे को ख़ौफ़नाक मौत, दबी जुबान से लोग बोले- कोई इतना निर्दयी कैसे हो सकता है..!

यूपी के कन्नौज जिले में आठ माह के मासूम की संदिग्ध स्थिति में मौत चर्चा का विषय बन गई है। बेटी ने मां पर ही गला दबाकर हत्या करने का आरोप लगाया है। पुलिस ने आरोपी मां को हिरासत में लिया है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद पुलिस ने मुकदमा दाखिल करने की बात कही है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में गला दबाने से बच्चे की मौत की पुष्टि हुई है।

loading...
नगर के एक मोहल्ला निवासी स्त्री अपने घर पर तीन बच्चों के साथ रहती है। सुबह स्त्री के आठ माह के बच्चे की संदिग्ध हालात में मौत हो गई। स्त्री के शोर मचाने पर घर में ही साथ रह रहीं सास पास पहुंचीं तो बच्चे की मौत की जानकारी हुई। महिला की चार वर्ष की बेटी ने अपनी दादी और चाचा को बताया कि मां सुबह से ही बहुत गुस्से में थीं। उन्होंने उसके छोटे भाई को गला दबाकर मार दिया। इस पर परिजन भी महिला पर ही बच्चे की हत्या का आरोप लगाकर बवाल करने लगे। शोरगुल सुनकर मोहल्ले के लोगों की भीड़ जमा हो गई।

जानकारी पर प्रभारी निरीक्षक बलराम मिश्रा पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंच गए। पुलिस ने आरोपी महिला व उसकी मां को हिरासत में लेकर कोतवाली भेज दिया। आरोपी महिला ने बताया कि तीन दिन से उसका बेटा भूखा था। उसे दूध नहीं मिला था। आज उसने बेटे को नीबू और चीनी का घोल पिला दिया, शायद इसी से उसकी मौत हो गई। इस संबंध में प्रभारी निरीक्षक बलराम मिश्रा ने बताया कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट में गला दबाने से बच्चे की मौत की पुष्टि हुई है।

आठ महीने के मासूम बेटे की हत्या के आरोप में कोतवाली पहुंची स्त्री की मां ने जमकर हंगामा काटा। वह बार-बार महिला पुलिस कर्मियों से घर जाने की गुहार लगाती रही। जब उसकी नहीं सुनी गई तो वह भड़क गई। बार-बार कोतवाली से निकलने का प्रयास करती रही। महिला का पति नगर में ही आटो पार्ट्स की दुकान किए था। परिजनों के मुताबिक पति-पत्नी में बहुत दिनों से अनबन चल रही थी।

आरोपी स्त्री ने कई बार पुलिस से शिकायत कर पति को पकड़वा दिया था। इससे वह 12 मार्च को मुंबई चला गया। वहीं किसी के यहां नौकरी करता है। परिजनों ने उसे बेटे की मौत की सूचना दे दी है। आठ माह के बच्चे की हत्यारोपी मां ने बताया कि उसके ससुरालीजनों ने बेटे का ख्याल नहीं रखा। पति मुंबई चला गया।

घर के सदस्यों ने उससे कोई वास्ता नहीं रखा। बेटा पिछले तीन दिनों से भूखा था। उसे दूध नहीं मिला था। जब बेटा भूख से तड़प रहा था तब किसी को उस पर दया नहीं आई। अब जब उसकी मौत हो गई तो प्रत्येक कोई हमदर्दी जता रहा है। उसे किसी की झूठी हमदर्दी की जरूरत नहीं है। आरोप लगाया कि उसके ससुरालीजन बेटी को बहला-फुसलाकर जबरन हत्या की बात कहलवा रहे हैं। इस घटना को लेकर लोगों में तरह-तरह की बातें हो रही हैं।