पत्नी को 20 बार फोन किया लेकिन उसने नहीं उठाया, कहा-मैं आज मर रहा हूं, मजबूरी है मेरी

आज मैं आत्महत्या कर रहा हूं। मजबूरी है मेरी। कैंट स्टेशन और पावली खास स्टेशन बीच वेदमित्र ने जिस तरह से सोशल मीडिया पर वीडियो शेयर कर आत्महत्या किया, वह हैरत में डालने वाली है। युवक ने लिखा कि पत्नी कोमल दहेज के मामले में फंसाकर जेल भिजवाने की धमकी देती थी। जमीन बिकवाकर एक प्लॉट पत्नी ने अपने नाम करा लिया। एक छोटा बेटा वेदांश है। युवक ने अपने सुसाइड नोट में लिखा कि उसने पत्नी की पढ़ाई में बहुत पैसा खर्च किया। इसके बाद भी पत्नी उत्पीड़न करती थी। एक सप्ताह पहले पत्नी ने जबरन घर का बंटवारा कराया। घर का बंटवारा न करने पर धमकी दी जाती थी। आगे लिखा है कि मैंने अपने बेटे की भलाई के लिए घर का बंटवारा किया। युवक ने अपने ससुर का नाम लिखकर कहा कि ससुराल वालों ने जबरन उसके घर के ताले तोड़ दिए। पत्नी ने बहुत झगड़ा किया। उसके बाद पत्नी ने अपनी सास को बहुत बेइज्जत किया। 
loading...
युवक ने लिखा कि मैंने शराब पी रखी थी। इस बीच पत्नी झगड़ा करने लगी तो पड़ोस का एक युवक आ गया, जो सिपाही है। मैंने सिपाही को गाली दी तो सिपाही ने कंट्रोल रूम को सूचना देकर पुलिस बुला ली। मुझे थाने में बंद करा दिया। बाद में मुझे जमानत पर छोड़ा गया। युवक ने लिखा कि मेरे पैसों से ससुराल के लोग कब तक मौज काटेंगे। युवक ने अपने ससुर, पत्नी के दादा व एक महिला को मौत का जिम्मेदार बताया। यह महिला जानी खुर्द में तैनात बताई। कहा कि उसकी पत्नी की गलती सिर्फ इतनी है कि वह अपने परिजनों के कहे में चलती है।

पत्नी को 20 कॉल किया, लेकिन मेरे बेटे से नहीं कराई बात

युवक ने तीन मिनट आठ सेकेंड की वीडियो फेसबुक पर शेयर की। यह वीडियो सेल्फी में है, जिसमें पीछे की तरफ एक फ्लाईओवर भी दिखाई पड़ रहा है। इसमें कहा गया कि आज मैं आत्महत्या कर रहा हूं। मजबूरी है मेरी। ससुरालियों ने मुझे बर्बाद कर दिया। मैंने बीस बार पत्नी को कॉल की। व्हाट्सएप पर मैसेज किए। मेरे एक बेटा है उससे बात नहीं कराई। अपने फायदे के लिए मेरा परिवार बर्बाद कर दिया। सरकार है, कानून है। सब सजा देंगे। मान लीजिए मैं मर गया। मैंने पत्नी को आठ लाख में जीएनएम का कोर्स कराया। पत्नी रोज कहती थी कि कॉलेज वाले चोर हैं। मुझे क्या पता कि अपने भाई के लिए कर रही है। कोमल के लिए भाई ने लोन कराया, लेकिन कोमल चोरी से अपने भाई को पैसे देती थी। मेरे घर का सब सामान अपने परिजनों को दे दिया। युवक ने यह भी लिखा कि जब मैं अपने साले के साथ शराब पीता था तो पत्नी ऐतराज नही करती थी। लेकिन कभी वैसे शराब पी तो झगड़ा करती थी। मैं जमीन बेचकर हस्तिनापुर में जमीन लेना चाहता था लेकिन ससुरालियों ने जबरन गणपति विहार में पत्नी कोमल के नाम प्लॉट खरीदवाया। मुझे मजबूरी में किराए पर रहना पड़ा। मेरा भाई डर के कारण अपनी पत्नी और बच्चों के साथ घर छोड़कर किराए पर रहा। 

कानून है तो प्लॉट मेरे बेटे के नाम करा देना

यदि कानून है तो बस मेरा प्लॉट बेटे के नाम करा देना और इस परिवार से दूर रखना क्योंकि इस परिवार ने मेरा सब कुछ बर्बाद कर दिया, यह परिवार किसी का भी कुछ भी कर सकता है। जैसे मेरा नाश कर दिया है। युवक ने अपनी पत्नी के दादा के बारे में भी लिखा। मै मरने जा रहा हूं, आखिरी टाइम मेरी इच्छा थी कि छह वर्ष के इकलौते बेटे से बात करूं, लेकिन पत्नी ने बात नहीं कराई।