नशे के कारण हो गई बेटे की मौत, लेकिन घरवालों ने नहीं किया उसका अंतिम संस्कार

गांव रनियां में नौजवान की नशे की ओवरडोज लेने से मौत हो जाने का समाचार प्राप्त हुआ है। 21 वर्षीय नौजवान गुरसेवक सिंह विक्की पुत्र अंग्रेज सिंह काफी समय से नशे का आदी था तथा पिछले एक महीने पहले काम-धंधे के लिए पंजाब से बाहर उड़ीसा गया हुआ था। सुबह ही वह वापस गांव रनियां में आया था और अपने घर आते ही वह गांव के चड़िक रोड पर अपने एक पुराने दोस्त के घर चला गया, जहां उसकी कुछ समय बाद मौत हो गई। गांव के लोगों ने बताया कि उक्त लड़के के नशे करने वाले कई लड़कों के साथ संबंध थे, जिस बारे उसके परिवार को भी पता था लेकिन वह नशे छोड़ने के लिए तैयार नहीं था।

उसने नशे का लिया था ओवरडोज
loading...
मृतक की माता अमनदीप कौर पत्नी अंग्रेज सिंह ने पुलिस को दिए बयानों में कहा कि जब मेरा लड़का गुरसेवक सिंह विक्की आज उड़ीसा से घर वापस आया, तो गांव में नशे का धंधा करने वाला एक लड़का गगनदीप सिंह पुत्र रूप सिंह उसको अपने घर बुलाकर ले गया। वहां उसने मेरे लड़के को अधिक मात्रा में नशे की डोज दे दी, जिससे वह बेहोश हो गया। इसके बाद बलवंत सिंह नाम के एक व्यक्ति ने मुझे फोन करके इस संबंधी जानकारी दी। जब मैं वहां पहुंची, तो मेरा लड़का बेहोश हुआ पड़ा था। हम उसको डाक्टर के पास लेकर गए, जहां डाक्टर ने उसको मृत घोषित कर दिया।

परिजनों ने नहीं किया उसका अंतिम संस्कार
मृतक की माता के बयानों को गंभीरता से लेते हुए पुलिस की ओर से थाना बधनीकलां में गगनदीप सिंह उर्फ गगना पुत्र रूप सिंह निवासी गांव रनियां के खिलाफ धारा 304 आई.पी.सी. अधीन मामला दर्ज करके जब शव को पोस्टमार्टम करवाने उपरांत वारिसों के हवाले किया, तो मृतक के परिवार ने आरोपी की गिरफ्तारी की मांग करते गुरसेवक सिंह का अंतिम संस्कार करने से इंकार कर दिया। पुलिस द्वारा जहां आरोपी की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी की जा रही है, वहीं मृतक के परिवार द्वारा गुरसेवक सिंह का अंतिम सस्कार भी नहीं किया गया था।