पीपल के पेड़ पर ऊपर बैठकर पूजा करने वाले बंदरिया बाबा से लोग हो गए हैं परेशान, जानें पूरा मामला

बहराइच जिले में कानून-व्वयस्था सुधारने में लगी पुलिस इन दिनों पीपल के पेड़ के शिखर पर पूजा कर रहे बंदरिया बाबा से परेशान है। बहराइच के मिहीपुरवा सुजौली थाना से चंद कदम की दूरी पर एक पीपल के पेड़ के शिखर पर बाबा को पूजा-पाठ करते देख लोग आश्चर्यचकित भी हैं। हरदोई जिले की शााहाबाद तहसील के तिहानी निवासी श्याम पांडेय उर्फ बंदरिया बाबा (65) पुत्र रामनारायण पांडेय की पूजा-पाठ की प्रक्रिया को देखने बड़ी संख्या में लोग एकत्र हो जाते हैं।
loading...
उन्होंने बताया कि लोग उन्हें बंदरिया बाबा पत्ती बाबा के नाम से भी जानते हैं। पेड़ के शिखर पर बैठकर उन्होंने आरती की। उन्होंने बताया कि थाना परिसर स्थित मंदिर में कन्याभोज कराने के बाद वह वापस लौट जाएंगे। बाबा ने बताया कि तकरीबन चार माह पहले उन्होंने रामगांव में भी एक पेड़ पर पूजा-आरती की थी। उनके शिखर पर बैठे होने की भनक लगते ही वहां लोग जुट गए। बंदरिया बाबा ने कहा कि मेरे ऊपर भगवान हनुमान का विशेष आशीर्वाद है। 

उन्होंने मुझे पेड़ पर चढऩे की क्षमता प्रदान की है। मैं पेड़ पर रहता हूं और पूजा व हवन करता हूं। मैं यही सोता भी हूं। मैं पेड़ के किसी एक शाख पर बैठकर ध्यान भी करता हूं। 'बंदरिया बाबा' को देखने के लिए हजारों की तादाद में लोग उमड़ रहे हैं। 60 की उम्र पार कर चुके इस बाबा के पास सिमियन (नरवानर) जैसी क्षमताएं हैं। सुजौली में यह शख्स पेड़ पर ही खाता और सोता है। भगवा वस्त्र पहने एक साधु की वेशभूषा को धारण करने वाले इस शख्स को 'बंदरिया बाबा' के नाम से जाना जाता है। 
इनका कहना है कि वह भगवान हनुमान का परम भक्त है और उन्हें कई खास गुण प्रदान किए गए हैं। बंदरिया बाबा ने कहा कि मेरे ऊपर भगवान हनुमान का विशेष आशीर्वाद है। उन्होंने मुझे पेड़ पर चढऩे की क्षमता प्रदान की है। मैं पेड़ पर रहता हूं और पूजा व हवन करता हूं। मैं यही सोता भी हूं। मैं पेड़ की किसी एक शाख पर बैठकर ध्यान भी करता हूं। वह लगभग चार महीने पहले बहराइच पहुंचे, लेकिन पुलिस ने भगा दिया कि वह कानून व्यवस्था के लिए बड़ी मुसीबत पैदा कर रहा है। वह दोबारा वापस आ गया और अब उसे देखने के लिए बड़ी संख्या में लोग एकत्रित हो रहे हैं।
बहराइच पुलिस के जनसंपर्क अधिकारी जितेंद्र कुमार सिंह ने कहा कि कानून व्यवस्था को बनाए रखने के लिए पुलिस ने इलाके में भारी तैनाती की है। जितेंद्र कुमार सिंह ने कहा कि उसे देखने के लिए हजारों की तादात में लोग आ रहे हैं। आपको नहीं पता कि कब, क्या हो जाए। हम चांस नहीं ले सकते। यह आदमी पेड़ की सबसे ऊंची चोटी पर रहता है, लेकिन मोबाइल पर बात करने से नहीं हिचकिचाता है।

बुधवार को भी उनके इस कार्यक्रम को देखने के दौरान काफी अफरा-तफरी मच गई। पुलिस ने मौके पर पहुंचकर लोगों को शांत कराया और बाबा को पेड़ से नीचे उतारने का प्रयास किया। बाबा उस समय तो नहीं माने, लेकिन देर रात वह पेड़ से नीचे उतर आए।