राजस्थान में दूध व घी के बाद बहा रिफाइंड ऑयल, लोगों में मची बर्तनों में तेल भरकर ले जाने की होड़

राजस्थान के सीकर जिले के नीमकाथाना इलाके के पाटन कस्बे में गुरुवार को तेल से भरा टैंकर पलट गया। इसके बाद लोगों में टैंकर से निकला रिफाइंड ऑयल बर्तनों में भरकर ले जाने की होड़ मच गई। जिस व्यक्ति के जो बर्तन हाथ लगा वह उसी में तेल भरकर ले गया। पाटन पुलिस के अनुसार कपास के रिफाइंड तेल से भरा टैंकर राजकोट गुजरात से होकर नोएडा जा रहा था। 
loading...
पाटन बाइपास पर अचानक नीलगाय आ गई, जिससे टैंकर असंतुलित हो गया और सड़क किनारे पलट गया। हादसे के बाद टैंकर से तेल का रिसाव शुरू हो गया, जो घास व झाड़ियों में व्यर्थ बह रहा था। जब इस बात का पता आस-पास के लोगों को लगा तो बाल्टी, पीपे आदि बर्तन लेकर बड़ी संख्या में मौके पर पहुंच गए और तेल भरकर ले गए। हादसे में चालक सुरक्षित बच गया है। बता दें कि राजस्थान में बीते तीन माह में दूध व घी के बाद तेल बहने की यह चौथी घटना है।

जयपुर में पलट गया था तेल का टैंकर

4 जुलाई को जयपुर जिले के चाकसू क्षेत्र में फागी रोड पर गोलीराव तालाब मोड़ पर कांडला गुजरात से मुरैना मध्य प्रदेश जा रहा राइस ब्रान तेल का टैंकर अनियंत्रित होकर पलट गया, जिससे टैंकर में भरा 44 हजार लीटर राइस ब्रान तेल सड़क पर बह गया। टैंकर को जब तक सीधा किया गया तब तक उसमें भरा पूरा तेल बह निकला। फागी मोड़ पीपली चौराहा से गांधी स्मारक रोड तक करीब आधा किमी तक तेल फैल गया। तेल सड़क पर बहकर नालियों में चला गया। तेल को इकट्ठा कर भरने के लिए लोगों की होड़ लग गई। करीब दो घंटे तक इस स्टेट हाइवे बाधित रहा।

झुंझुनूं में पलट गया था दूध का टैंकर
27 जून को झुंझुनूं जिले के बिसाऊ कस्बे में चूरू रोड स्थित मदरसा के पास दोपहर को दूध से भरा टेंकर पलट गया, जिससे सड़क पर दूध की नदी बह निकली। लोगों को जब दूध का टेंकर पलटने और उसका ढक्कन खुलने के कारण दूध बहने का पता लगने पर जिसके जो बर्तन हाथ लगा वो दूध ले जाने के लिए पहुंच गया। लोगों में बाल्टी, पीपे व जग आदि में दूध भरकर ले जाने की होड़ देखी गई।

सीकर में पलट चुका है घी से भरा हुआ टैंकर
23 जून को सीकर जिले में लोसल डीडवाना सड़क मार्ग पर मोरडूंगा मोड के पास एक टैंकर पलट गया। टैंकर डीडवाना से सीकर आ रहा था। सड़क पार कर रही गाय को बचाने के प्रयास में वनस्पति घी से भरा टैंकर पलट गया था।टैंकर पलटने के बाद उसमें से घी सड़क पर बहने लगा। जैसे ही आस-पास के लोगों को यह पता चला तो वे बड़ी संख्या में मौके पर पहुंचे और फिर लोगों में घी लूट ले जाने की होड़ गई। लोग घरों से बाल्टी, पीपे समेत अन्य कई बर्तनों में घी भरके ले गए।