मायके में रह रही थी पत्नी, पति के प्यार से बुलाने पर गई घर और फिर पति ने दो लोगों के साथ मिलकर किया ये काम

अलीगढ़ के गंगीरी थाना क्षेत्र के गांव नगला हिमाचल में एक युवती को उसके पति ने जिंदा जला दिया। दहेज प्रताडऩा से तंग आकर यह युवती अपने पति के साथ डेढ़ महीने से मायके में रह रही थी, लेकिन मंगलवार की रात पति में बदलाव आ गया। अपने पिता व भाई के साथ मिलकर पहले इंजेक्शन लगा बेहोश किया और फिर पेट्रोल डालकर आग लगा दी। शोर सुन तीनों भाग निकले, जिनमें से युवती के ससुर को पीछा कर ग्र्रामीणों ने पकड़ लिया और पुलिस के हवाले कर दिया। मृतका के पिता रनवीर सिंह पुत्र मलखान सिंह ने हत्या का मामला दर्ज कराया है।

अभी चार साल पहले ही हुई थी दोनों की शादी
loading...
इनकी छह संतानों में सबसे बड़ी बेटी सीमा (23) का पालन पोषण जिला कासगंज के थाना सहावर क्षेत्र के गांव परतापुर मौहम्मद खां स्थित ननिहाल में हुआ। चार साल पूर्व रनवीर सिंह ने अपने सालों की मदद से सीमा की शादी थाना दादों के गांव नगरिया जाहर निवासी विजेंद्र सिंह के पुत्र रवि के साथ की थी। रिपोर्ट के अनुसार शादी के समय यथासंभव दहेज दिया गया। इसके बाद भी ससुरालीजन सीमा से एक लाख रुपये, एक भैंस, सोने की अंगूठी व जंजीर की मांग कर रहे थे। मांग पूरी न होने पर उसे  प्रताडि़त किया जाने लगा।

इलाज के बहाने लगा दिया इंजेक्शन
करीब डेढ़ माह पूर्व सीमा अपने पति के साथ अपने मायके आ गई। रवि ने एक माह पूर्व नगला हिमाचल से करीब डेढ़ किलो मीटर दूर गांव नौगवां में डॉक्टरी की दुकान खोल ली। उस पर डॉक्टरी की कोई डिग्र्री नहीं है। मंगलवार की रात वह अपने पिता विजेंद्र सिंह व बड़े भाई सतीश के साथ ससुराल पहुंचा। तीनों एक कमरे में बैठ कर सीमा से बात करने लगे। वह कई दिन बीमार थी, जिसे पति ने इलाज का बहना बेहोशी का इंजेक्शन लगा दिया। इसके बाद पेट्रोल डाल कर आग लगा दी। घर में मौजूद सीमा के भाई व बहन के शोर मचाने पर ग्र्रामीण आ गए। सूचना पर पहुंची पुलिस ने सीमा को मेडिकल कॉलेज पहुंचाया, जहां उसकी मौत हो गई।