राममंदिर निर्माण के लिए SC को खून से लिखा पत्र, खुद को बताया भगवान श्रीराम का साक्षात वंशज

गोंडा जिले में स्थित उमरी के सोनू ठाकुर ने खुद को भगवान श्रीराम का वंशज होने का दावा किया है। उन्होंने खून से उच्चतम न्यायालय को पत्र लिखा है, जिसे राष्ट्रपति को भी भेजा है। पत्र में सोनू ठाकुर ने उच्चतम न्यायालय से राम के भव्य मंदिर बनवाने की अपील की है। खुद को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का भक्त बताने वाले सोनू योगी चालीसा भी लिख चुके हैं। 
loading...
उनकी नित पूजा भी करते हैं। सोनू ने खून से लिखे पत्र में बताया है कि उनके पूर्वज कैसे अयोध्या से गोंडा में आकर बस गये थे। सोनू खुद को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का भक्त बताते हैं। उन्‍होंने योगी चालीसा की रचना भी की है। उनके घर में योगी की तस्वीर लगी है, जिसकी वे नियमित रूप से पूजा करते हैं। वहीं इससे पहले नरेश टिकैत ने भी खुद को भगवान राम का वंशज बताया है। 

पत्र में उसने लिखी ये बातें 
पत्र में सोनू ने लिखा है कि हम राम के वंशज हैं। हमारे पूर्वज वर्षों पहले अयोध्या से आकर गोंडा के उमरी में बस गए थे। खुद को लक्ष्मण की पत्नी उर्मिला के अपभ्रंश रूप उर्मि (उमरी) का रहने वाला बताया है। उमरीडीह पर एक ऊंचे टीले पर बने मंदिर का जिक्र करते हुए लिखा है कि उर्मिला ने यहीं पर देह का त्याग किया था। उनकी याद में ही यह मंदिर बनवाया गया था, जिसे अब भी उर्मि माता मंदिर के नाम से जाना जाता है। 
पुरातत्व विभाग ने खोदाई के दौरान यहां एक किला मौजूद होना स्वीकार किया है। खुद को बाबा खूनशाह का वंशज बताते हुए लिखा है कि उनके पूर्वज सैकड़ों वर्ष पहले अयोध्या से चलकर गोंडा के उमरी में आकर बस गए थे। उनके चार बेटे टिकैत, बादशाह, अवसान और लहुरी के नाम पर आज भी गांव में रहने वाले राजपूतों की चार पट्टी विभाजित है। बतौर सोनू बाबा खूनशाह अपने साथ वंशावली लेकर आए थे, जो जीर्ण-शीर्ण अवस्था में है, इसलिए उन्हें श्रीराम का वंशज समझा जाए और अयोध्या में भव्य मंदिर निर्माण का आदेश दिया जाए। 
खुद को दादा खूनशाह की वंशावली बताया 
सोनू का दावा है कि हमारे दादा के दादा का नाम खूनशाह था। वो अयोध्‍या के निवासी थे वहां से वंशावली रहे हमारे पास साक्ष्‍य उपलब्‍ध है। जो खूनशाह हैं उनके चार लड़के हुए बड़े लड़के का नाम टिकैत और सबसे बड़ा बादशाही के नाम से जाना जाता है। 

पत्र में उसने कहा अयोध्‍या में बनाया जाए भव्‍य मंदिर 
सोनू ने न्‍यायालय और राष्‍ट्रपति से निवेदन किया है कि हमें भगवान राम का वंशज समझा जाए और आयोध्‍या में भगवान राम का भव्‍य मंदिर बनाया जाए।  मुख्‍यमंत्री योगी सोनू ने खून से लिखे पत्र में बताया है कि उनके पूर्वज कैसे अयोध्या से गोंडा में आकर बस गये थे।