सांवले रंग की वजह से लड़कियां नहीं करती थीं दोस्ती, युवक ने अपनाया ऐसा तरीका कि पुलिस ने उठा लिया

आजमगढ़ जिले में एक युवक ने लड़कियों को इम्प्रेस करने के लिए खुद को एमबीबीएस, एमडी से लेकर आईएएस और आईपीएस तक बना डाला। कई लड़कियों से चैटिंग भी की, लेकिन एक लड़की के पिता की पोस्टमार्टम रिपोर्ट हासिल करने की सनक ने उसे जेल पहुंचा दिया। युवक को जेल जाने का मलाल भी नहीं है, बस दुख इस बात का है कि उस लड़की ने उसके साथ दगा किया और इस्तेमाल करने के बाद छोड़ गई।

जानिए क्या है ये पूरा मामला
loading...
मामला आजमगढ़ जिले का है। नितिन कुमार सिंह तहबरपुर थाना क्षेत्र के आशापुर गांव का रहने वाला है। नितिन बीए द्वितीय वर्ष का छात्र है। उसने आईटीआई भी की है। कद-काठी अच्छी होने के बाद भी रंग सांवला होने से लड़कियां उससे दोस्ती नहीं करती थीं। नितिन को लड़कियों को इम्प्रेस करने की सनक सवार हो गई और वह फेसबुक व अन्य सोशल साइट्स पर खुद को एमबीबीएस एमडी, आईएएस, आईपीएस बताकर लड़कियों से चैटिंग शुरू कर दी। किसी लड़की को वह खुद को एमडी, तो किसी को आईएएस या आईपीएस बताकर चैटिंग करता था। फोटोशॉप के जरिए नितिन ने अपनी कई डिग्री तैयार कर ली और शहर के एक डॉक्टर के अस्पताल में चिकित्सक की ट्रेनिंग भी करने लगा। इस दौरान उसने कई विभागों की मोहर बनवा ली और अधिकारियों के हस्ताक्षर तक बनाने लगा।

जानिए कैसे खुला यह पूरा राज?
एक लड़की जिससे वह चैटिंग करता था, उसके पिता की मौत हो गई। लड़की के कहने पर नितिन ने उसके पिता की पोस्टमार्टम रिपोर्ट हासिल करने की कोशिश की, लेकिन जब रिपोर्ट नहीं मिली तो उसने खुद को एमबीबीए-एमडी बताते हुए एसपी को पत्र लिख पीएम रिपोर्ट की मांग कर दी। पुलिस को शक हुआ तो उसने छानबीन शुरू की और युवक को हिरासत में ले लिया। पुलिस ने उसके लैपटॉप से कई फर्जी अभिलेख बरामद किए। साथ ही कई विभागों की सील और इनकम टैक्स विभाग से जुड़े अभिलेख भी हासिल किए।

काफी ज्यादा कमाई भी करता था ये युवक
एसपी प्रो. त्रिवेणी सिंह का कहना है कि युवक लड़कियों को इम्प्रेस करने के लिए तो ऐसा करता ही था, साथ ही इसे कमाई का जरिया भी बना लिया था। उसके द्वारा कुछ लोगों को फर्जी प्रमाण पत्र जारी करने की चर्चा है। मामले की जांच चल रही है, अगर ऐसा कुछ सामने आता है तो संबंधित के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।