20 दिन पहले हुआ था बोल-ठोल, और अब लड़के के साथ हुआ कुछ ऐसा की...

20 दिन पहले नेहरू पार्क के निकट झगड़े में घायल हुए स्कूली छात्र ने शुक्रवार रात उपचार के दौरान दम तोड़ दिया। पुलिस ने मृतक के शव को सरकारी अस्पताल की मोर्चरी में रखवाया। परिजनों ने रोष जताते हुए आरोपितों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है। नगर थाना प्रभारी चंद्रशेखर ने परिजनों को कार्रवाई का आश्वासन देकर बयान कलमबद्ध किए। अजीत नगर के आकाशदीप (16) पुत्र गुरमीत सिंह फाजिल्का रोड स्थित प्राइवेट स्कूल में 10वीं कक्षा का छात्र था। 
29 सितंबर को सीडफार्म में जागरण के दौरान आकाशदीप का कुछ युवकों से विवाद हो गया, जिसे गांव की पंचायत ने सुलझा दिया। 30 सितंबर को जब आकाशदीप सरकारी स्कूल बाल के बाहर दोस्त देवेंद्र कुमार के साथ खड़ा था तो कुछ युवकों ने उस पर डंडों से प्रहार कर उसे व उसके दोस्त को घायल कर दिया। घायलों को सरकारी अस्पताल में भर्ती करवाया गया, जहां से आकाशदीप को फरीदकोट रेफर कर दिया गया। कुछ दिन तक चले इलाज के बाद उसे वहां से छुट्टी दे दी गई। लेकिन कल घर पर जब उसकी हालत बिगड़ी तो उसे गंगानगर के एक निजी अस्पताल में भर्ती करवाया गया जहां, उसने दम तोड़ दिया।

इकलौता बेटा था आकाशदीप
आकाशदीप अपने माता-पिता का इकलौता पुत्र था। थाना प्रभारी चंद्रशेखर ने बताया कि यह करीब 20 दिन पुराना झगड़े का मामला है। इसमें पुलिस ने कुछ लड़कों पर रिपोर्ट दर्ज की हुई है, लेकिन लड़के की मौत के बाद धारा में बढ़ोतरी की जाएगी। पुलिस इस मामले की जांच कर रही है। रविवार को मृतक का पोस्टमार्टम करवाया जाएगा। आकाशदीप के परिजनों में अजय कुमार, संजू, रोहन, गोपी सिंह, कृष्ण कुमार, मनजीत कौर, प्रीति, गगनदीप कौर, मक्खन सिंह, स्वर्णा रानी ने मोर्चरी के बाहर रोष जताते हुए उक्त हमलावरों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की।