पति-पत्नी ने किया ऐसा काम, दीवार पर 5 लाइनों में लिख गए अपना पूरा दास्तान, जानिए....

अमृतसर के फेयरलैंड कालोनी में एक दंपति ने कारोबार में घाटे और कोठी पर बढ़ रहे कर्ज से परेशान होकर आत्महत्या कर ली। आरोप है कि उन्होंने गुरविन्द्र सिंह नामक पुलिसकर्मी से कोठी खरीदी थी। बाद में पता चला कि कोठी पर 16 लाख रुपए का कर्ज है। अब बैंक अधिकारी कोठी कब्जाने की धमकी दे रहे थे। वहीं दूसरी तरफ कारोबार में घाटा होने पर सुनील और उसकी पत्नी मोनिका बैंक का भुगतान नहीं कर पा रहे थे। दोनों ने दीवार पर सुसाइड नोट लिख आत्महत्या कर ली। उधर, ए.सी.पी. नॉर्थ सरबजीत सिंह बाजवा ने बताया कि सुसाइड नोट के आधार पर पुलिसकर्मी गुरविन्द्र सिंह, दुकान के नौकर थॉमस तथा लवनीत सिंह पर आत्महत्या के लिए उकसाने के आरोप में केस दर्ज किया गया है। 
फिल्हाल सभी फरार हैं। विशाल ने बताया कि लगभग 24 साल पहले उनकी बहन मोनिका (44) की शादी सुनील कुमार (50) के साथ हुई थी। दोनों अपने 2 बेटों दानिश (18), साहिल (20) तथा मां शारदा के साथ रह रहे थे। उनके जीजा की खानकोट गांव में दवा की दुकान है। कुछ समय पहले सुनील ने फेयरलैंड कालोनी में पुलिसकर्मी गुरविन्द्र सिंह से कोठी खरीदी थी। कोठी पर पुलिसकर्मी ने बैंक से 16 लाख रुपए कर्ज ले रखा था, जबकि उसने सिर्फ 4 लाख रुपए बताए थे। पुलिस वाले ने झांसा देकर सुनील को अपनी कोठी का कब्जा दे दिया और पैसे ले लिए। इसके बाद आरोपी गुरविन्द्र सिंह रजिस्ट्री नहीं करवा रहा था।
उधर, बैंक को जब किस्तें समय पर नहीं मिलीं तो उन्होंने कोठी पर कब्जा करने के लिए सुनील को कह दिया। इससे सुनील काफी परेशान हो गया। विशाल ने बताया कि इसी तरह मैडीकल स्टोर पर काम करने वाला मुलाजिम थॉमस भी दुकान में लगातार घाटा दिखा रहा था। परिवार को अब आर्थिक तंगी होने लगी थी। बैंक, थॉमस, पुलिसकर्मी गुरविन्द्र सिंह तथा लवनीत सिंह नामक एक व्यक्ति से दोनों पति-पत्नी काफी परेशान हो गए थे। बुधवार की सुबह दोनों ने आत्महत्या कर अपनी जीवन लीला समाप्त कर ली। सुबह जब काफी देर तक दोनों नहीं उठे तो सुनील की मां शारदा देवी तथा बेटा साहिल उनके कमरे में गए। वहां मोनिका की लाश बिस्तर पर थी और सुनील का शव पंखे से झूल रहा था।

लवनीत से लेने थे 60 हजार रुपए
पुलिस जांच में सामने आया कि सुनील ने कुछ समय पहले प्रापर्टी डीलर का कारोबार भी शुरू किया था। उसने कुछ समय पहले लवनीत सिंह नाम के युवक को दुकान लेकर दी थी। सुनील ने लवनीत से 60 हजार रुपए लेने थे जिसका वह भुगतान नहीं कर रहा था। सुनील कई बार लवनीत सिंह से उक्त पैसे मांग चुका था लेकिन पैसे नहीं मिलने से वह परेशान हो चुका था।

दीवार पर पांच लाइन का लिखा सुसाइड नोट

सुनील ने आत्महत्या को अंजाम देने से पहले घर की दीवार पर पांच लाइन का सुसाइड नोट लिखा था जिसमें उसने लवनीत सिंह, पुलिसकर्मी गुरविन्द्र सिंह तथा मैडीकल स्टोर के नौकर थॉमस को मौत का जिम्मेदार बताया है। इसके साथ ही बेटे साहिल के लिए लिखा था कि वकील को आत्महत्या के बारे में जानकारी दे दी जाए।