खुद को भगवान की बेटी बता महिलाओं से करती थी ठगी, कहती थी-मेरी दवा से बच्चे होंगे

उत्तर प्रदेश में बिजनौर स्योहारा थाना क्षेत्र के गांव लाम्बाखेडा में पुलिस ने ठगी का पर्दाफाश किया। यहां एक युवती खुद को नागकन्या बताकर निसंतान महिलाओं को दवाएं देती थी। वह कहती थी कि मेरे यहां उपचार कराने पर महिलाएं मां बन सकती हैं। एक पीड़िता की शिकायत मिलने पर पुलिस ने आज उस युवती को गिरफ्तार कर लिया। पूछताछ में पता चला कि उक्त युवती हर सोमवार को अपने घर नागराज-शेषनाग का दरबार सजाकर बैठती थी। वह 20 रुपए फीस लेकर निसंतान महिलाओ को दवाई देती थी।
पिछले दिनों उस युवती ने अपने भाई की तबियत खराब होने की बात कहते हुए फीस बढाकर 50 रुपए कर दी। ज्यादा पैसों का इंतजाम करने वह एक गांव में गई और वहां किसी घर में यज्ञ का आयोजन कर रही थी। उस यज्ञ के आयोजन मे आठ-दस लोगों को बैठाकर गठबंधन करा रही थी। यज्ञ समाप्त होने के बाद वह उनसे 20-20 हजार रुपये ले रही थी। ऐसे में जब एक महिला की तबियत खराब हुई तो उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया। डॉक्टरों ने बताया कि महिला को ऐसा कैमिकल दिया गया है, जिससे इसकी पेट की नशें बढ़ रही हैं। 
यह जानकारी क्षेत्र के गावों में फैल गयी और सभी लाम्बाखेडा में इक्ठ्ठा होकर नाग कन्या होने का दम भरने वाली ज्योति से पैसे वापसी की मांग करने लगे। मौके पर पहुंची पुलिस भीड से बचाकर ज्योति और उसके माता पिता को थाने ले आई। जिसके बाद अंधविश्वास के चक्कर में आए लोगो द्वारा थानाध्यक्ष को प्रार्थना पत्र देकर कानूनी कार्यवाही की मांग की गई। बताया जाता है कि उक्त युवती द्वारा 2 वर्षों से इसी तरह दवाई देने का सिलसिला चलता रहा। हालांकि, उस दौरान किसी को इस अंधविश्वास का पता नही चला।