बॉस देता था दर्द, साथी महिला कर्मचारी भी कम शैतान न थीं, फिर जो हुआ...

हैदराबाद में अपने ट्रांसफर से दु:खी भेल की एक लेडी आफिसर ने फांसी लगाकर सुसाइड कर लिया। नेहा चौकसे पति सुनील खंडेलवाल हैदराबाद की भेल यूनिट में डिप्टी ऑफिसर थी। उसे भोपाल की भेल यूनिट से ट्रांसफर किया गया था। 33 साल की नेहा ने गुरुवार को मियापुर में अपने घर पर फांसी लगाई। 
पुलिस को उसके पास से एक सुसाइड नोट मिला है। इसमें उसने भेल हैदराबाद के डीजीएम और भोपाल भेल के कुछ अफसरों पर मानसिक रूप से टॉर्चर करने की बात लिखी है। नेहा का 10 जून 2019 को हैदराबाद भेल में ट्रांसफर हो गया था। इससे पहले वो भोपाल भेल में कार्यरत थी। इस मामले से दोनों यूनिट में हड़कंप की स्थिति है।

बेहद मिलनसार थी नेहा...
अफसरों का तर्क है कि नेहा ने शादी के बाद भोपाल से खुद ट्रांसफर चाहा था। भेल भोपाल के पीआरओ संजय राजवंशी के मुताबिक, करीब डेढ़ साल पहले नेहा की शादी हुई थी। उसके पति हैदराबाद में रहते हैं। वो भोपाल में वित्त विभाग में अकाउंटेंट थी। बताते हैं कि नेहा ने कभी भी लिखित या मौखिक रूप से भेल की आंतरिक महिला कमेटी या प्रबंधन से प्रताड़ना संबंधी कोई शिकायत नहीं थी। नेहा के कहने पर ही उसका ट्रांसफर हैदराबाद किया गया था। नेहा को लोग बेदह मिलनसार बताते हैं। 

हालांकि सुसाइड नोट में नेहा ने भेल भोपाल की पांच महिला सहकर्मियों पर मानसिक प्रताड़ना का आरोप लगाया है। नेहा ने अपने जॉब की शुरुआत झांसी भेल से की थी। बेटी की मौत की खबर सुनकर पिता तुलसीराम चौकसे स्तब्ध हैं। वे हैदराबाद रवाना हो चुके हैं। तुलसीराम भोपाल के आनंदनगर इलाके में रहते हैं। तुलसीराम कंस्ट्रक्शन वर्क से जुड़े हैं। नेहा का मायका काफी सम्पन्न है। ऐसे में सुसाइड की कोई दूसरी वजह सामने नहीं आती।