नवरात्र में हिंदू परिवार ने मुस्लिम लड़की को दुर्गा बनाकर किया पूजन, जानिए इसके बाद क्या हुआ...

गौरतलब है कि, स्वामी विवेकानंद ने 121 साल पहले कश्मीर में एक मुस्लिम की बेटी की माँ दुर्गा के रूप में पूजा की थी। और अब वहीं फिर दोहराया गया, बता दें कि इस चार साल की फातिमा के पिता मोहम्मद ताहिर आगरा से हैं। वह तमाल दत्त के निमंत्रण पर कोलकाता, पश्चिम बंगाल में दुर्गा पूजा देखने आए हैं। महाअष्टमी के दिन देवी दुर्गा के रूप में कुमारी कन्याओं की पूजा की जाती है।
स्थानीय निकाय में, इंजीनियर तमाल दत्त ने कहा कि पहले हम जाति और धार्मिक प्रतिबंधों के कारण केवल ब्राह्मण लड़कियों के साथ कुमारी पूजा करते थे। वह कमरहटी नगर पालिका में इंजीनियर हैं। उन्होंने 2013 से अपने घर में माँ की पूजा अर्चना को शुरू किया है। इस साल, उन्हें पुरानी परंपराओं से दूर जाने और सांप्रदायिक सद्भाव के लिए कुछ करने का फैसला किया।
उन्होंने कहा कि हम सभी जानते हैं कि मां दुर्गा इस धरती पर सभी की मां हैं, उनका कोई धर्म, जाति या रंग नहीं है। इसलिए हमने परंपरा को तोड़ा और एक मुस्लिम बच्ची को दुर्गा के रूप में सजाकर पूजन किया। उन्होंने कहा कि पहले हमने गैर-ब्राह्मणों की पूजा की थी, इस बार हमने एक मुस्लिम लड़की की पूजा की है। हालांकि जब लोगों को इस बारे में पता चला तो उनकी काफी तारीफ की जा रही हैं।