आई एम सॉरी हनी, आई हर्ट यू-लिखकर महिला प्रोफसर ने कर लिया ऐसा काम, जानिए....

निजी कॉलेज की प्रोफेसर ने बुधवार रात फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। नौ महीने पहले ही उसने प्रेम विवाह किया था। महिला के माता-पिता का 16 साल पूर्व वैष्णोदेवी से लौटते वक्त पठानकोट में सड़क हादसे में निधन गया था। पुलिस को कमरे से पर्ची पर लिखा सुसाइड नोट भी मिला है, जिसमें लिखा हुआ था 'आईएम सॉरी हनी, आई हर्ट यू'। राजेंद्र नगर थाना पुलिस के मुताबिक, घटना बुधवार रात करीब 8 बजे की है। रॉयल बंगला शिवालय कॉलोनी में रहने वाले सिमरन भाटिया की सांवेर रोड पर पाइप बनाने की फैक्टरी है। नौ महीने पहले ही सिमरनजीत सिंह और प्रिया ने प्रेम विवाह किया था। बड़े भाई गुरुराजसिंह भाटिया ने बताया कि 30 वर्षीय प्रिया (रुचि) राऊ स्थित निजी कॉलेज में प्रोफेसर थी। 
वह शाम को 4 बजे कॉलेज से लौटी और पहली मंजिल स्थित कमरे में चली गई। उस वक्त सिमरनजीत (हनी) सियागंज गया हुआ था। मां रवींद्र कौर भाटिया कॉलोनी में ही टहलने गई थी। जब प्रिया काफी देर तक बाहर नहीं आई तो गुरजीतसिंह की पत्नी सुखविंदर कौर ने कॉल कर बताया कि प्रिया कमरे का दरवाजा नहीं खोल रही है। शक होने पर प्रिया के मुंहबोले भाई फखरुद्दीन आरिफ निवासी हैदरी कॉलोनी को कॉल कर बुलाया। आरिफ ने प्रिया के मोबाइल पर कॉल किया तो घंटी सुनाई दी। आरिफ ने धक्का देकर दरवाजा खोला को प्रिया साड़ी से फांसी लगा चुकी थी। मौके पर पहुंची एफएसएल एक्सपर्ट की टीम को कमरे से एक पर्ची और पेन पड़ा हुआ मिला। पर्ची पर लिखा हुआ था 'आईएम सॉरी हनी, आई हर्ट यू'। पुलिस ने प्रिया की डायरी से लिखावट मिलाई और नोट जब्त कर लिया।
करोड़ों की प्रॉपर्टी की अकेली वारिस थी प्रोफेसर प्रिया मुंशी रिश्तेदारों के मुताबिक, प्रिया पूरे परिवार सहित 16 वर्ष पूर्व वैष्णोदेवी दर्शन करने गई थी। लौटते वक्त पठानकोट में उनकी कार को ट्रक ने टक्कर मार दी। हादसे में माता-पिता व भाई-बहन की मौत हो गई। तीन महीने उपचार के बाद प्रिया बच गई। साथ पढ़ने वाले सिमरन से उसकी दोस्ती थी। नौ महीने पूर्व दोनों ने शादी कर ली। माता-पिता की मौत के बाद प्रिया करोड़ों रुपए कीमती प्रॉपर्टी की अकेली वारिस बन गई थी। उसने एक इमारत में हॉस्टल भी खोल लिया था। पुलिस के मुताबिक, आत्महत्या के कारणों की जांच की जा रही है।