पेट पर पति का आघात, और फिर परेशान पत्नी ने उठाया ऐसा कदम....

जमशेदपुर के कदमा स्थित भाटिया बस्ती निवासी गोपाल दास की पत्नी ममता प्रसाद ने रविवार की शाम फांसी लगा ली। हालांकि, परिजनों ने मृतका के पति गोपाल व ननद मधु देवी पर डबल मर्डर का आरोप लगाया है। इसे लेकर परिजनों ने महात्मा गांधी मेमोरियल मेडिकल कॉलेज अस्पताल में जमकर हंगामा किया। मृतका के परिजनों ने कदमा थाने जाकर घटना की शिकायत पुलिस से कर दी है। पुलिस मामले की जांच कर रही है। 
मृतक की मां लक्ष्मी देवी ने बताया कि शाम को दामाद ने अचानक फोन किया और बताया कि ममता ने फांसी लगा ली है। इसके बाद वे लोग दौड़ते-भागते वहां पहुंचे तो देखा कि ममता छत के पंखे से लटकी हुई है। इसके बाद उसे उतारा गया। तब तक पुलिस भी पहुंच गई थी। वहीं ममता के ससुराल वाले भी मौजूद थे लेकिन किसी ने उसे उतारने में सहयोग नहीं किया। सभी देखते रहे। ममता के दोनों भाई ने गले से चुन्नी खोलकर उसे उतारा और एमजीएम अस्पताल लेकर आए। यहां पर डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया।

ममता एक माह की थी गर्भवती

ममता की शादी वर्ष 2009 में हुई थी। उसके बाद से उसका बच्चा नहीं हो रहा था, जिसके लिए उसे प्रताडि़त किया जा रहा था। अभी एक माह पूर्व वह गर्भवती हुई थी। इसी दौरान रविवार की सुबह उसके पेट पर पति कूद गया। जिससे बच्चा खराब हो गया है। इसकी जानकारी ममता ने अपनी मां लक्ष्मी देवी को फोन कर दी। इसके बाद लक्ष्मी देवी ने अफसोस जताते हुए कहा कि उसे धुलाई कराना होगा। रविवार को कोई डॉक्टर क्लिनिक में नहीं मिलेगा। इसलिए सोमवार को वह आएगी और डॉक्टर के पास लेकर जाएगी। लेकिन, इसी दौरान यह घटना घट गई। उसे नहीं मालूम था कि इतनी बड़ी घटना घटने वाली है। 

रविवार को ही ससुराल लौटी थी ममता
रविवार को ही ममता अपने मायके बागबेड़ा से ससुराल कदमा लौटी थी। ममता की मां ने बताया कि वह कुछ दिनों से मायके में रह रही थी। उसका दामाद बिहार अपने गांव गया था। रविवार की सुबह गोपाल कुमार ट्रेन से टाटा नगर स्टेशन पहुंचा और पत्नी को फोन कर वहां बुलाया। इसके बाद ममता स्टेशन पहुंची और दामाद उसे अपने साथ लेकर कदमा स्थित ससुराल चला गया। उसके कुछ घंटों के बाद दोपहर करीब 12 बजे ममता ने अपनी मां को फोन किया और बताया कि उसका गर्भ खराब हो गया है। इसका कारण पूछने पर ममता ने बताया कि पति उसके पेट पर कूद गए है।