पति ने अपने गुजरने का कारण पत्नी-उसके प्रेमी समेत इन्हें बताया, और फिर जानिए क्या हुआ...

सूरजपुर जिले के प्रतापपुर थानांतर्गत ग्राम मरहट्टा निवासी उपेंद्र गुप्ता ग्राम दुरती स्थित प्राइमरी स्कूल पंडोपारा में सहायक शिक्षक (एलबी) के रूप में पदस्थ था। 9 अक्टूबर को वह अपनी बाइक के साथ लापता था। उसकी गुमशुदगी की रिपोर्ट परिजनों ने थोन में दर्ज कराई थी। दूसरे दिन ही उसकी बाइक पंडोपारा में महान नदी के किनारे मिली। बाइक के पास ही जहर की एक पैक शीशी, एक अन्य बॉटल का रैपर और डिस्पोजल गिलास तथा सुसाइड नोट मिला था। पुलिस ने इसे बरामद कर लिया था। किसी अनहोनी की आशंका पर पुलिस शिक्षक की खोजबीन में जुटी हुई थी। 
इसी बीच शनिवार की दोपहर प्रतापपुर पुलिस को ग्रामीणों से जानकारी मिली कि भैंसामुंडा से लगे महान नदी के तट पर एक सड़ी गली लाश मिली है। सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंची। साथ में शिक्षाकर्मी संघ के रंजय सिंह सहित अन्य सदस्य व शिक्षक के परिजन भी मौके पर पहुंचे। यहां परिजनों ने उसकी पहचान उपेंद्र गुप्ता के रूप में की। संभावना जताई जा रही है कि शिक्षक ने जहर सेवन करने के बाद महान नदी में छलांग लगा दी होगी। उसका शव घटनास्थल से 6 किलोमीटर दूर मिला।

सुसाइड नोट में लिखीं ये बातें
शिक्षक के पास से पुलिस ने एक सुसाइड नोट भी बरामद किया है। इसमें उसने अपनी मौत का जिम्मेदार पत्नी सुनीता गुप्ता व उसके प्रेमी बिश्रामपुर निवासी विनय सिंह को बताया है। उसने लिखा है कि विनय सिंह ने ही उसकी पत्नी को रखा है। साथ ही उसने पत्नी के पिता, बहनों के नाम का भी जिक्र किया है। उसने सूरजपुर के 2 वकीलों के नाम का जिक्र करते हुए लिखा है कि सभी ने मिलकर उसके ऊपर प्रतापपुर व सूरजपुर थाने में 16 केस दर्ज कराए हैं। सभी मिलकर बार-बार उसे जान से मारने की धमकी देते हैं। इसी कारण वह आत्महत्या कर रहा है। उसने अपनी मौत के जिम्मेदार सभी को जेल भेजने की गुहार पुलिस से की है। सुसाइड नोट के लास्ट में उसने अपना हस्ताक्षर भी किया है।

बरामद हुआ है सुसाइड नोट
शिक्षक द्वारा लिखा हुआ सुसाइड नोट हमने बरामद किया है। मृत शिक्षक अपनी पत्नी से किसी विवाद के बाद से अलग रहता था। उसने सुसाइड नोट में पत्नी व उसके प्रेमी के नाम का जिक्र करते हुए आत्महत्या की बात लिखी है। मामले की जांच की जा रही है।