नाइजीरियन लड़कों के साथ पकड़ी गई एक लड़की, इनका कारनामा कर देगा हैरान...

सहारनपुर पुलिस ने दाे नाइजीरियन युवकों काे उनकी बनारसी दाेस्त के साथ गिरफ्तार किया है। यह अंतरराष्ट्रीय गिरोह फर्जी मैट्रीनाेनियल साइट्स पर अपनी फर्जी आईडी से नौजवान युवक युवतियों को ठगते थे। इन्होंने फर्जी आईडी बनाकर ही सहारनपुर की एक शिक्षिका से भी ठगी की और शादी का झांसा देकर करीब ₹900000 ठग लिए।

एसपी सिटी विनीत भटनागर ने गिरफ्तार नाइजीरियन युवकों और बनारस की लड़की के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि तीनों ने मिलकर सहारनपुर की एक शिक्षिका से ऑनलाइन ठगी की। यह तीनों मैट्रिमोनियल साइट पर फर्जी आईडी बनाते थे और युवक-युवतियों को शादी का झांसा देकर उनके साथ ठगी करते थे।

सहारनपुर की साइबर सेल टीम ने इन तीनों को नोएडा से गिरफ्तार किया है। संदेह के आधार पर पुलिस की टीम पहले इन्हें नोएडा से पूछताछ के लिए सहारनपुर लाई। पूछताछ के दाैरान जब इन्हाेंने अपने कारनामे गिनाए ताे खुद फुलिस भी हैरान रह गई। इन्होंने अपने नाम पॉल हैरिस और जॉर्ज बताए। दोनों नाइजीरिया के एकेबपो हिल स्टेट के रहने वाले हैं। पॉल हैरिस ने मैट्रिमोनियल साइट पर एक फर्जी आईडी बनाई और इस मैट्रिमोनियल साइट के जरिए उन्होंने सहारनपुर की एक तलाकशुदा शिक्षिका को फंसाने की कोशिश की। तीनों मिलकर उस तलाकशुदा शिक्षिका को फंसाने में कामयाब भी हो गए और इन्होंने करीब ₹900000 शिक्षिका से हड़प लिए।

इमोशनली ब्लैकमेल करके करते था ठगी

यह गिराेह इमोशनली ब्लैकमेल किया करता था। अपनी योजना के अनुसार सहारनपुर की शिक्षिका से शादी का झांसा देकर फर्जी आईडी से पॉल हैरिस ने शिक्षिका को अपना नाम कृष्ण कुमार बताया और अपने दो बेटों के साथ भारत आने की बात कही। इस तरह एक फर्जी फिल्मी कहानी बनाते हुए भारत की धरती पर उतरने की बात कहकर कृष्ण कुमार ने शिक्षिका को बताया कि उसे कस्टम अधिकारियों ने छत्रपति शाहूजी इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर पकड़ लिया है। ऐसे में उसे कुछ पैसे देने होंगे वरना वह वापस नहीं लौट पाएंगे। इसी तरह की अलग-अलग कहानी बनाकर इन्हाेंने शिक्षिका से कई बार पैसे मांगाए।

वीजा खत्म होने के बाद भी रह रहे थे भारत

गिरफ्तार नाइजीरियन युवकों पर सहारनपुर पुलिस ने धोखाधड़ी के साथ-साथ गैरकानूनी तरीके से भारत में रहने का चार्ज भी लगाया है। पुलिस की जांच पड़ताल में यह बात सामने आई है कि दोनों के बीच भी खत्म हो चुके थे। वीजे की अवधि खत्म होने के बावजूद भी यह दोनों नोएडा में रह रहे थे। पॉल हैरिस करीब 4 साल पहले भारत आया था और इसने बिजनेस का वीजा लिया था। इसके वीजे की अवधि मार्च में ही समाप्त हो चुकी है। जबकि इसके दूसरे साथी जॉर्ज के पास कोई भी जा ही नहीं मिला है। वहीं इनकी तीसरी साथी सिरिजा बनारस यूनिवर्सिटी से पढ़ाई करके नोएडा आई थी। यह तीनों सुपरटेक यूपी कंट्री टावर गलगोटिया यूनिवर्सिटी के पास रहते थे।

सिरिजा मूल रूप से कव्वाली धाम दुर्गाकुंड वाराणसी की रहने वाली है और वह भी वर्तमान में नोएडा में ही रह रही थी। इन तीनों की दोस्ती थी और तीनों ने अपने शौंक पूरे करने के लिए ऐश्वर्या की जिंदगी जीने के लिए ठगी करने की योजना बनाई और तीनों इंटरनेशनल ठग बन गए। पूछताछ में जोश ने पुलिस को बताया है कि उसका वीजा और पासपोर्ट चोरी हो गया है लेकिन उसने f.i.r. नहीं कराई है सहारनपुर पुलिस ने भारतीय दूतावास को भी इन दोनों के बारे में जानकारी दे दी है।