पायल बेचकर प्रेमी से शादी रचाने उसके घर पहुंच गई प्रेमिका, लेकिन फिर वहां जो हुआ...

अपने प्रेम को पाने के लिए एक युवती ने पैरों की पायल बेच दी। जो पैसा मिला उससे अम्बेडकर नगर ज़िले से चलकर सरपतहां थानांतर्गत कम्मरपुर गांव पहुंच गई। काफी मान मनव्वल के बाद दोनों की शादी हो गई। दोनों की शादी में गांव के साथ साथ परिवार के लोग भी शामिल हुए। दोनों के प्रेम की चर्चा पूरे ज़िले में पूरे दिन होती रही।
अम्बेडकरनगर जिले के जाफरगंज अखिपुर गांव की निषाद बस्ती निवासी एक युवती की बात फोन पर कम्मरपुर गांव निवासी अपनी ही बिरादरी के लड़के से होने लगी। समय के साथ दोनों के बीच प्यार भी गहरा होता गया। अचानक प्रेमी ने प्रेमिका का फोन उठाना बंद कर दिया। बातचीत के दौरान ही प्रेमी ने युवती को अपना बता दिया था। काफी दिनों तक इंतजार करने के बाद प्रेमिका ने ठान लिया कि अब वो प्रेमी को तलाश करके ही दम लेगी, लेकिन घर से काफी दूर रह रहे प्रेमी तक पहुंचने के लिए उसके पास किराये के पैसे नहीं थे।

कुछ न सूझा तो उसने अपने एक पैर की चांदी की पायल गांव के सुनार को बेच दी। फिर जो पैसा मिला उससे ट्रेन का टिकट लेकर अकबरपुर से शाहगंज चली आई। यहां प्रेमी के गांव के बारे में पता करते हुए कम्मरपुर गांव चली आई। गांव के लोगों से पता कर प्रेमी के घर पहुंच गयी। अचानक प्रेमिका को अपने सामने देख प्रेमी चौंक गया। युवती ने जब बताया कि वो उससे शादी करना चाहती है तो युवक ने इनकार कर दिया। 
प्रेमिका काफी देर तक अपने प्यार का हवाला देती रही तो प्रेमी का दिल भी पसीज गया। आखिरकार वो भी शादी के लिए राजी हो गया। दोनों ने परिवार वालो से बताया कि काफी दिनों से प्यार चल रहा था। अब वे शादी करने के लिए तैयार हो गए। फिर क्या था आनन फानन में शादी की तैयारी कर ली गई। सबके सामने ही गांव के मंदिर में धूमधाम से दोनों को एक कर दिया गया।