प्रेमी-प्रेमिका को परिवार वालों ने अपनाने से किया इंकार, और फिर जो हुआ, जानिए

सोनिया गांधी के संसदीय क्षेत्र रायबरेली में महराजगंज के राम जानकी मंदिर में प्रेमी द्वारा प्रेमिका को भगा लेने जाने पर उसको लड़के के घर वालो ने स्वीकार करने से मना कर दिया है। वही लड़की जब वापस अपने घर पहुंची तो वंहा भी उसे अपने लिए दरवाजे बंद मिले।

प्रेमी युगल के दर्द
ऐसे में प्रेमी युगल के दर्द को समझ कुछ सामाजिक लोगो ने उन्हें बसाने का बीड़ा उठाया और दोनों के परिजनों को समझा बुझाकर मंदिर में उनकी शादी करा कर उनको बसाया है। जिले के महराजगंज कस्बे के राम जानकी मंदिर में विवाह के जोड़े में मौजूद एक दूसरे को वरमाला पहना रहे ये वर वधू कल्पना व सूरज है जो कि एक दूसरे से प्रेम करते थे और घर वालो के विरोध करने पर घर से भाग गए थे। लड़की जब लड़के के साथ उसके घर पहुंची तो लड़के वालों ने उसे अपनाने से इनकार कर दिया। वही जब वो वापस अपने घर पहुंची तो उसके परिवार ने भी उसे नही अपनाया। 
ऐसे में समाज के कुछ सभ्रांत लोगो ने दोनों को बसाने का बीड़ा उठाया और दोनों के परिजनों से बात की जिसमे सहमति बंनने पर आज दोनों का विवाह महराजगंज के राम जानकी मंदिर में कराया गया और इसमें दोनों के परिजन भी सम्मिलित हुए। कल्पना व सूरज का विवाह आने वाले समय मे उन लोगो के लिए एक नजीर जरूर बन सकता है जो आज समाज मे अपनी नाक को ऊंचा रखने के लिए अपने कलेजे के टुकड़ों को अपने से जुदा कर देते है या झूठी शान के लिए उनकी जान ले लेते है।