शादी के बाद मां नहीं बनी तो ससुरालियों ने जो उसके साथ किया जानकर हैरान होंगे आप....

पटियाला शहर में घरेलू झगड़े के चलते विवाहिता की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत में हो गई। शव का पोस्टमार्टम करवाने के लिए राजिदरा अस्पताल में पहुंचे मायके परिवार ने बेटी के ससुराल पर हत्या करने के आरोप लगाए हैं। वहीं पुलिस ने प्राथमिक जांच के आधार पर मृतका जसविदर कौर के भाई संदीप सिंह वासी गांव चन्नो के बयानों के आधार पर पति गुरप्रीत सिंह व सास सरबजीत कौर वासी गांव लंग के खिलाफ आत्महत्या के लिए मजबूर करने के तहत थाना त्रिपड़ी में मामला दर्ज कर लिया है। जबकि पुलिस कार्रवाई से असंतुष्ट पीड़ित परिवार ने हत्या की धाराएं जोड़ने की मांग की है। 
मायके परिवार का आरोप है कि बेटी के पति और सास ने उसे जबरदस्ती जहर दिया। फिलहाल आरोपित पुलिस की गिरफ्त से बाहर है, लेकिन पुलिस द्वारा उन्हें जल्द गिरफ्तार करने का दावा किया जा रहा है। मृतका के चचेरे भाई हरविदर सिंह वासी गांव चन्नो ने बताया कि बहन की शादी दिसंबर 2018 में गुरप्रीत वासी लंग से हुई थी। इसके बाद अचानक उसकी (बहन) तबीयत बिगड़ गई और अस्पताल में जांच के दौरान यूटर्स में रसौली होने का पता चला जिससे वह मां बनने में परेशानी झेल रही थी। 
जिसके चलते ससुराल परिवार ने उसे ताने देना शुरू कर दिए और मायके परिवार से दहेज लाने के लिए भी तंग किया। घरेलू विवाद के चलते कई बार पंचायती समझौता भी हुआ। दिवाली से एक दिन पहले बहन को ससुराल घर छोड़ कर आया था। सोमवार सुबह करीब नौ बजे सुसराल परिवार ने फोन कर बताया कि जसविदर की तबीयत अचानक बिगड़ गई है। जिस पर उसके ससुराल पहुंचे। जहां पर जसविदर कमरे में बेसुध हालत में पड़ी थी और मुंह से झाग निकल रही थी। इसके बाद उन्होंने तुरंत जसविदर को प्राइवेट अस्पताल में भर्ती करवाया जहां पर सोमवार दोपहर तीन बजे उसकी मौत हो गई।

आरोपितों की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी जारी

मामले संबंधी जानकारी देते थाना त्रिपड़ी के एएसआइ लखविदर सिंह ने बताया कि पोस्टमार्टम करवाकर शव परिजनों के हवाले कर दिया है। बयानों के आधार पर गुरप्रीत सिंह और सरबजीत कौर वासी गांव लंग के खिलाफ आत्महत्या के लिए मजबूर करने की विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज कर लिया है। आरोपितों गिरफ्तारी के लिए छापेमारी की जा रही है।