वह नेवी की तैयारी कर रहा था लेकिन अचानक पार्क में एक लड़की के साथ मिला और फिर जो हुआ...

जमशेदपुर जिले के जुगसलाई में पार्क में जिस सरोज उपाध्याय और सिमरन कुमारी का शव मिला, उनको बागबेड़ा कॉलोनी के अनीस पांडेय ने बाइक से पिगमेंट गेट के पास जुगसलाई पार्क में रात के ढाई बजे पहुंचाया था। बागबेड़ा के गाढ़ाबासा में लगे एक सीसीटीवी के फुटेज में तीनों बाइक से जाते दिख रहे हैं। सरोज और सिमरन की मौत के मामले में यह फुटेज अहम सुराग है। फुटेज में दिख रहा है कि बाइक अनीस पांडेय चला रहा था। सरोज बीच और सिमरन पीछे बैठी थी। फिलहाल अनीस पांडेय पुलिस हिरासत में है। 
उसने पूछताछ में पुलिस को बताया कि सरोज उपाध्याय ने मंगलवार रात दो बजे के करीब फोन कर बागबेड़ा लाल बिल्डिंग दुर्गा पूजा मैदान के पास बुलाया था। जब वह पहुंचा तो सरोज और सिमरन वहां खड़े मिले। अनीस के अनुसार उसके पहुंचते ही सरोज ने कहा कि हम दोनों को मरीन ड्राइव छोड़ दो। उसने जाने से इन्कार कर दिया। बहुत दबाव देने पर सरोज ने जुगसलाई पार्क के पास छोड़ने को कहा तो वह तैयार हो गया। लाल बिल्डिंग चौक से गाढ़ाबासा बस्ती होते हुए पिगमेंट गेट के पार्क के पास वे लोग पहुंचे। दोनों को छोड़ने के बाद वह वापस घर लौट गया। बताया कि सिमरन रात डेढ़ बजे दुर्गा पूजा मैदान पहुंच गई थी। इसकी पुष्टि पुलिस को गाढ़ाबासा के एक घर के सामने लगे सीसीटीवी के फुटेज से हुई।

रात ढाई बजे हुई थी सरोज से बातचीत
अनीस पांडेय ने बताया कि रात ढाई बजे सरोज उपाध्याय से उसकी फोन पर बातचीत हुई थी। सरोज और सिमरन पार्क में ही थे। इसके बाद बातचीत नहीं हुई। चार बजे वह हर दिन की तरह दौड़ने के लिए घर से निकला। टाटा पिगमेंट गेट की ओर जाने लगा। रास्ते में परसुडीह निवासी मित्र अमरेंद्र से फोन कर पूछा कि वह कब आ रहा है। अमरेंद्र ने कहा घर आ जाए और उसे भी साथ ले चले। वहां से दोनों पार्क पहुंचे। दौड़ने के बाद पार्क के अंदर जा रहे थे। एक वृद्ध ने कहा कि पार्क में युवक-युवती की लाश है मत जाओ। जाकर देखा। लाश सरोज और सिमरन की थी।

सरोज के पास देखा था पिस्टल
अनीस पांडेय ने पुलिस को बताया कि सरोज उपाध्याय के पास उसने पिस्टल भी देखा था। इसमें कितनी सच्चाई है पुलिस पता लगा रही ह। यह भी पता लगाया जा रहा है कि पिस्तौल सरोज कहां से लेकर आया था? पुलिस ने सरोज उपाध्याय के मोबाइल का कॉल डिटेल निकाला है। रात में उससे कौन-कौन संपर्क में थे, उस डिटेल के आधार पर पुलिस ने पांच युवकों को हिरासत में लिया है। इनमें अनीस पांडेय, आदित्य, अमरेंद्र और दो अन्य शामिल हैं। सरोज को जानने वाले बताते हैं कि नेवी में वह इंटरव्यू में छंट गया था। बड़े भाई मुकेश उपाध्याय के दरोगा में चयन होने के बाद उसने भी पुलिस बल में शामिल होने की तैयारी शुरू कर दी थी। वह दौड़ने जाता था और नौकरी के लिए परीक्षा में शामिल होता था।