चलती ट्रेन के पीछे दौड़ी मां, चिल्लाई-मेरा बेटा रह गया है और फिर...

इंदौर में अपने तय समय पर मालवा एक्सप्रेस मां वैष्णो देवी के लिए रवाना हुई। ट्रेन प्लेटफॉर्म पार करती, इसी दौरान एक महिला ट्रेन के पीछे भागने लगी। इस बीच ट्रेन के गार्ड ने ट्रेन रोकी तो मां ने अपना बेटा ट्रेन में होना बताया, लेकिन कोच चेक करने पर भी वह ट्रेन में नहीं मिला, जबकि वह मां के इंतजार में स्टेशन के बाहर खड़ा हुआ था।

कोच में नहीं दिखा बेटा
गुरुवार दोपहर 12.25 बजे मालवा एक्सप्रेस कटरा के लिए रवाना हुई। ट्रेन के पीछे दौड़ रही महिला को देखकर गार्ड मिंटू सिंह ने ट्रेन रोकी। महिला से पूछने पर बताया कि उसका 11 साल का बेटा अमृत सिंह पिता सरवनसिंह ट्रेन के एस-8 कोच की 68 नंबर सीट पर बैठा है। इसके बाद महिला जब कोच में पहुंची तो बेटा वहां भी नहीं था। इसके बाद ट्रेन रवाना हो गई। महिला दीपिका पति सरवन सिंह ने मौके पर मौजूद आरपीएफ आरक्षक रवि दभाड़े और जीआरपी महिला कांस्टेबल को घटना बताई।

कांस्टेबल ने बेटे को लगाया फोन
इसके बाद कांस्टेबल रवि ने अमृत के मोबाइल पर कॉल किया तो उसने बताया कि वह प्लेटफॉर्म-4 से बाहर एसबीआई के एटीएम के पास खड़ा है मां का इंतजार कर रहा है। इसके बाद जीआरपी कांटेबल ने बेटे की पहचान करवा कर उसकी मां को सौंप दिया।