परिवार ने नकारा तो लोगों ने कराया प्रेमी युगल का विवाह, जानिए क्या था ऐसा कारण....

रायबरेली के महाराजगंज कस्बा स्थित रामजानकी मंदिर परिसर में मंगलवार को एक अनूठा वैवाहिक अनुष्ठान संपन्न हुआ। इसमें ग्रामीणों ने प्रेमी जोड़े के परिवारीजनों को रजामंद कर दोनों का विवाह कराया। मामला क्षेत्र के हसनपुर गांव का है, जहां की रहने वाली कल्पना पुत्री हंसराज का भवानीगढ़ निवासी सूरज पुत्र दुक्खी के बीच प्रेम चल रहा था। दोनों पक्ष के लोग इस रिश्ते के खिलाफ थे। इससे आजिज आकर प्रेमी, प्रमिका ने क्षेत्र के मोन गांव स्थित ओरी दास बाबा मंदिर में ईश्वर को साक्षी मान प्रेम विवाह कर लिया।
इस पर लड़के पक्ष ने लड़की को उसके परिवारीजनों के सुपुर्द कर दिया। किंतु परिवारीजनों ने उसे ना अपनाते हुए घर से निकाल दिया। इस दौरान दीपावली को लड़की फिर अपने प्रेमी के घर पहुंच गई। इस पर लड़के पक्ष ने लड़की को लेकर उसके घर पहुंचे, जहां उनकी मुलाकात गांव के ही समाजसेवी आदित्य श्रीवास्तव से हुई। मामला सजातीय देखते हुए आदित्य ने लड़के पक्ष से गांव वालों के सामने बात की।
इस पर हिंदू रीति रिवाज से विवाह करने पर लड़की को अपनाने की बात लड़के पक्ष ने स्वीकार की। किंतु लड़की पक्ष ने विवाह पर पैसा आदि खर्च की व्यवस्था न होने की असमर्थता जाहिर की। इस पर आदित्य श्रीवास्तव व ग्रामीणों ने पूरा खर्च उठाते हुए रामजानकी मंदिर में धूमधाम से विवाह कर प्रेमी जोड़े को मिलाया।