10 साल बाद हुई थी गर्भवती तो पति ने मार दिया था पत्नी के पेट पर लात, और फिर अब जो हुआ वो...

कदमा के भाटिया बस्ती निवासी गोपाल दास की पत्नी ममता प्रसाद (32) ने रविवार शाम फांसी पर झूल गई। हालांकि, रिश्तेदारों ने मृतक के पति गोपाल और नंद मधु देवी पर दोहरे हत्याकांड का आरोप लगाया है। परिवार के सदस्यों ने महात्मा गांधी मेमोरियल (MGM) मेडिकल कॉलेज अस्पताल में हंगामा खड़ा कर दिया। मृतका के मायके वालों ने कदमा थाने में जाकर पुलिस को घटना की जानकारी दी। पुलिस छानबीन में जुटी हुई है।
मृतका की मां लक्ष्मी देवी ने बताया कि शाम को दामाद ने अचानक फोन करके कहा कि आपकी बेटी ने फांसी लगा लिया है। इसके बाद जब वे वहां पहुंचे तो उन्होंने देखा कि ममता छत के पंखे से लटकी हुई हैं। इसके बाद, उसे नीचे लाया गया। तब तक पुलिस भी पहुंच गई थी। वहीं, ममता के ससुराल वाले भी मौजूद थे, लेकिन किसी ने भी उसे फांसी से नीचे उतारने में मदद नहीं की। हर कोई देखता रह गया। ममता के दोनों भाईयो ने गले से चुन्नी को खोला और अस्पताल लेकर भागे। तब तक उसकी मौत हो गई थी।
ममता की शादी वर्ष 2009 में हुई थी। तब से उनके कोई बच्चा नहीं था, जिसके लिए उन्हें परेशान किया जा रहा था। वह एक महीने पहले गर्भवती हो गई। इस बीच, पति ने किसी बात की कहा सुनी को लेकर उसके पेट पर लात मार दिया। जिसकी वजह से बच्चा मर गया। ममता ने इसकी जानकारी अपनी मां लक्ष्मी देवी को दी। इसके बाद लक्ष्मी देवी को पछतावा होता है और वो कहती है कि अब तो सफाई कराना होगा। इसलिए वह कल आएगी और अस्पताल चलेगी। लेकिन इसी बीच यह घटना हो गई।