इन दो दुल्हनों को ढूंढ रहे राजस्थान के दूल्हे, वजह जानकर चौंक जाएंगे आप...

तस्वीर यूपी के बरेली की सीमा और शिवानी की है। ये दोनों 8 नवंबर को दुल्हन बनकर राजस्थान के भरतपुर के गांव हथैनी आई। महज चार दिन बाद ही 12 नवंबर की रात को दूल्हे और उसके परिवार को जहरीला पदार्थ खिलाकर भाग गईं। शुक्रवार शाम तक भी इन फरार लुटेरी दुल्हनों का कोई सुराग नहीं लगा है।

दलाल के जरिए हुई शादी
भरतपुर जिले के चिकसाना थानाधिकारी श्रवण पाठक के अनुसार गावं ह​थैनी निवासी 32 साल के रमेश सिंह और उसके भाई 27 वर्षीय मोहन सिंह की शादी 8 नवंबर को यूपी के बरेली निवासी दलाल संतोष के जरिए सीमा और शिवानी के साथ करवाई गई। इसके बदले संतोष को लाखों रुपए दिए। अब दोनों दुल्हन ससुराल से 5 लाख के जेवर और 2 लाख नकद रुपए लेकर भाग गई। इस संबंध में संतोष से सम्पर्क करने पर उसने दूल्हों के परिवार को दुल्हन पकड़वा देने का भरोसे दिया है, लेकिन अब उसका फोन बंद आ रहा है। दुल्हनों के घर पर ताला लगा हुआ है।

अंडा करी बनाई उस रात
यूपी के बरेली की ये दोनों लड़किया दुल्हन बनकर भरतपुर जिला मुख्यालय से महज दस किलोमीटर दूर स्थित गांव ह​थैनी आ गई थी। शुरुआती तीन दिन तक सब कुछ ठीक रहा, मगर नई दुल्हन सीमा और शिवानी का बुधवार को ही चूल्हा पुजवाया गया था। इसके बाद उन्होंने रस्म के तौर पर अपने लिए चावल बनाए, जबकि बाकी परिवार के लिए कढ़ी और अंडा करी बनाई थी। रात को खाना खाने के बाद दोनों ने सबको चाय बनाकर पिलाई।

सुबह होश आया तो दुल्हन गायब
गुरुवार सुबह दूल्हों का छोटा भाई देवर मुकेश जगा तो दूल्हा रमेश, मोहन, पिता रामकिशन और भाभी जेठानी पूनम बेहोश मिले। दोनों नई नवेली दुल्हन गायब थी। घर में नकदी रुपए और जेवरात भी नहीं मिले। ऐसे में आशंका है कि उन्होंने बुधवार के भोजन में कुछ जहरीला पदार्थ मिलाकर खिलाया या नींद की गोली दे दी,​ जिससे रात को किसी को दुल्हनों के फरार होने की भनक तक नहीं लगी। मुकेश ने खाना कम खाया था। इसलिए उस पर असर कम हुआ। दूल्हों समेत चारों सदस्यों को अस्पताल में भर्ती करवाना पड़ा है।