प्यार में अंधी युवती ने करा दिया अपने ही पति के साथ ऐसा, और फिर प्रेमी संग किया पकड़ाई….

लखनऊ। आज के समय में लोगों के लिए किसी की जिंदगी लेना आसान हो गया है। आए दिन लोगों किसी न किसी कारण बस लोगों को मौत की नींद सुला देते हैं। इसी तरह हत्याकांड का एक मामला मेरठ के टीपीनगर से सामने आया है। जिसका खुलासा होते ही लोगों के बीच हड़कंप मच गया। बता दें प्रदीप मर्डरकेस का पुलिस ने 12 घंटे के अंदर खुलासा कर दिया। पुलिस के मुताबिक हत्या की पटकथा उसकी पत्नी मनप्रीत ने लिखी थी। हत्या करने का सबसे बड़ा कारण प्रदीप द्वारा तलाक न देना और प्रेमी से बात करने पर मनप्रीत को थप्पड़ मारना रहा था। रविवार को पुलिस ने हत्या के आरोप में मनप्रीत और उसके प्रेमी राजदीप समेत तीन आरोपी गिरफ्तार कर हत्या में प्रयुक्त तमंचा बरामद किया गया है।
एसएसपी अजय साहनी ने मीडिया को बताया कंकरखेड़ा थानाक्षेत्र अंतर्गत शोभापुर गांव निवासी प्रदीप कुमार पुत्र सूरजमल वेदव्यासपुरी स्थित नीलकंठ कॉलोनी में रहता था। शनिवार शाम प्रदीप की घर के पास गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। वहीं पुलिस ने जब इस हत्याकांड की जांच की तो पता चला प्रदीप का पत्नी मनप्रीत से आए दिन विवाद रहता था। इस बीच मनप्रीत की मुलाकात राजदीप उर्फ राजा पुत्र राजपाल निवासी गांव घाट थाना परतापुर से हुई थी। मनप्रीत और राजदीप में नजदिकिया इतनी बढ़ गई थी कि लगभग तीन माह पहले मनप्रीत ने राजदीप के साथ हनुमानगढ़ (राजस्थान) के एक मंदिर में शादी कर ली थी। उसके बाद से मनप्रीत प्रदीप को रास्ते से हटाने की योजना बनाने लगी। जिसके बाद प्रदीप मनप्रीत पर शक करने लगा था।

लवर के लिए ली पति की जान

एसएसपी के मुताबिक मनप्रीत ने पूछताछ में बताया कि शनिवार सुबह वह अपने प्रेमी से मोबाइल पर बात कर रही थी। इसी दौरान कमरे में आए प्रदीप ने उससे मोबाइल छीनकर उसे थप्पड़ मार दिया था। दोपहर को मनप्रीत ने प्रेमी राजदीप को कॉल कर कहा था कि आज फिर प्रदीप बेइज्जती की है, कब तक मुझे पिटवाएगा। जिसके बाद प्रेमी ने मनप्रीत से कहा कि आज प्रदीप को किसी बहाने से घर के बाहर ले आना।  उसके बाद मैं उसका काम तमाम कर दूंगा।  शाम सात बजे मनप्रीत ने प्रदीप को पेटीज खाने के बहाने घर से बेकरी के लिए लेकर निकली थी। इस बीच उसने प्रेमी को कॉल कर दी थी।

मनप्रीत की कॉल पर राजदीप अपने भाई बाबू के साथ बाइक से पहुंचा था। रास्ते में ही राजदीप ने साइड मारकर प्रदीप की बाइक रुकवा ली थी। प्रदीप ने खतरा भांपकर शोर मचाने की कोशिश की। लेकिन तीनों ने उसे घेर लिया था। मनप्रीत ने प्रदीप का मोबाइल छीन लिया था। उसे थप्पड़ मारकर कहा था कि बता और मारेगा थप्पड़, अब बता। इसी बीच राजदीप ने प्रदीप के सिर से सटाकर गोली चला दी थी। वारदात के बाद दोनों आरोपी भाग निकले थे। जबकि मनप्रीत ने शोर मचाकर मामले को लूटपाट से जोड़ने की पूरी कोशिश की थी।

प्रेम विवाह के चलते किया मर्डर

पुलिस की माने तो मनप्रीत एक एनजीओ में काम करती थी। करीब डेढ़ साल पहले प्रदीप की मनप्रीत से फेसबुक पर दोस्ती हुई थी। जिसके बाद प्रदीप ने भी बाद में एनजीओ को ज्वाइन कर लिया।  अलग-अलग जाति के होने के चलते दोनों ने करीब एक साल पहले प्रेम विवाह किया था। वहीं राजदीप पेशे से ड्राइवर था। राजदीप से भी करीब एक साल पहले मनप्रीत की मुलाकात हुई थी।  जिसके बाद ही मनप्रीत प्रदीप से तलाक मांगना शुरू कर दिया था। लेकिन प्रदीप इसका विरोध करता था। लेकिन इसके बावजूद मनप्रीत ने राजदीप से प्रेम विवाह कर लिया