शादी से एक दिन पहले लड़की हुई गायब, और फिर जो हुआ जानिए....

कानपुर से दिल्ली जाने के लिए 9 दिसंबर घर से निकाली 22 वर्षीय छात्रा कानपुर सेंट्रल स्टेशन से रहस्यमयी ढंग से गायब हो गई। तीन दिन बाद छात्रा का शव खून से लथपश महाराजपुर के तिवारीपुर गांव के पास हाईवे किनारे पड़ा मिला। शव मिलने की सूचना पर पहुंचे परिजनों ने युवती की शिनाख्त की है। युवती की शिनाख्त होने के बाद शव को पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया गया है। वहीं, युवती के परिजनों को रो-रोकर बुरा हाल है।

सगाई की खरीदारी के लिए निकली थी घर से
कानपुर के नजीराबाद थाना क्षेत्र निवासी 22 वर्षीय हरप्रीत कौर 9 दिसंबर को रात साढ़े नौ बजे दिल्ली में रहने वाले अपने बड़े भाई सुरेंद्र सिंह के घर जाने के लिए अकेले ही घर से निकली थी। युवती के परिजनों ने बताया कि उसकी 13 दिसंबर को सगाई थी, इसकी की खरीदारी करने के लिए वह श्रमशक्ति एक्सप्रेस से अकेले दिल्ली जाने के निकली थी। गुरुबचन सिंह के मुताबिक, रात 10.20 बजे पत्नी जानकी कौर ने बेटी को फोन किया तो उसने बताया कि वह सेंट्रल स्टेशन पहुंच चुकी है। उसने यह भी बताया कि उसका वेटिंग टिकट कन्फर्म हो गया है। इसके बाद रात 12 बजे जब दोबारा फोन किया गया तो हरप्रीत का फोन स्विच ऑफ मिला। सुबह भी फोन बंद था। इसके बाद बेटे सुरेंद्र को फोन करके बेटी के बारे में जानकारी ली तो पता चला कि वह दिल्ली पहुंची ही नहीं है।

तीन दिन बाद महाराजपुर में मिला शव
इधर कानपुर-प्रयागराज हाईवे स्थित महाराजपुर के महुआगांव व प्रेमपुर मोड़ के बीच में गुरुवार दोपहर करीब तीन बजे प्रयागराज की ओर जा रही एक बस के यात्री ने युवती का शव देखकर पुलिस को सूचना दी। पुलिस को हाईवे चौड़ीकरण के तहत निर्माणाधीन नाले की दीवार के पीछे युवती का शव पड़ा मिला। सूचना पर एसएसपी अनंत देव तिवारी, एसपी ग्रामीण प्रद्युम्न सिंह व अन्य पुलिस अधिकारी मौके पर पहुंचे। फॉरेंसिक टीम के अनुसार युवती के सिर पर भारी वस्तु से प्रहार कर हत्या की गई है। अनुमान है कि हत्या शव मिलने के करीब 24 घंटे पहले की गई। शाम तक थानों से गुमशुदगी की जानकारी जुटाने के बाद करीब पांच बजे पुलिस ने जब गुरुबचन सिंह से संपर्क कर हुलिया बताया तो उन्होंने शव की शिनाख्त अपनी बेटी हरप्रीत कौर के रूप में की। इससे उनके परिवार में कोहराम मच गया। पुलिस हत्या के कारण तलाश रही है।