पत्नी ने शराब पीने से रोका तो नाराज पति ने कर दिया इतना बड़ा काम, जानिए....

पत्नी की तरफ से शराब पीने से मना करने पर गुस्से में पति द्वारा जहरीली दवा की गोलियां निगलने के बाद उसे गंभीर हालत में सिविल अस्पताल होशियारपुर उपचार के लिए लाया गया, लेकिन डॉक्टरों ने उसे अमृतसर ले जाने के लिए कहा। इस दौरान कल शनिवार देर सायं अमृतसर ले जाते वक्त रास्ते में ही 42 वर्षीय परमिंद्र सिंह पुत्र सुखदेव सिंह निवासी गांव धामियां कलां की मौत हो गई। परमिंद्र सिंह एक निजी कंपनी में काम करता था व पार्ट टाइम में फोटोग्राफर का भी काम किया करता था। घर में इकलौता कमाने वाले परमिंद्र सिंह अपने पीछे पत्नी रमन और बेटी हरजोत व बेटा रवि को रोते बिलखते छोड़ गया है।

नशे की लत ने कहीं का नहीं छोड़ा
रविवार सुबह सिविल अस्पताल में पोस्टमार्टम कक्ष के बाहर मृतक परमिंद्र सिंह के छोटे भाई संदीप सिंह व अन्य परिजनों ने बताया कि परमिंद्र जालंधर रोड पर स्थित एक कंपनी में काम करता था। इसी दौरान उसे नशे की लत पड़ गई। जो कमाता था उसे शराब में उड़ा दिया करता था। पत्नी के रोकने पर नाराज हो जाया करता था। कल शनिवार को भी जब पत्नी ने समझाने की कोशिश की तो गुस्से में उसने जहरीली दवा निगल ली। हालत बिगड़ते देख उसे तत्काल ही शामचौरासी सिविल अस्पताल ले जाया गया जहां उसकी हालत बिगड़ते देख तत्काल ही होशियारपुर सिविल अस्पताल लाया गया था। 
शनिवार शाम परमिंद्र की हालत तेजी से बिगड़ते देख डॉक्टरों ने उसे बेहतर इलाज के लिए अमृतसर रैफर कर दिया लेकिन अमृतसर जाने के दौरान रास्ते में ही परमिंद्र की मौत हो गई। पुलिस ने किया शव परिजनों के हवाले। रविवार दोपहर के समय सिविल अस्पताल परिसर में थाना बुल्लोवाल के अधीन आते शामचौरासी पुलिस चौकी में तैनात व इस मामले की जांच कर रहे ए.एस.आई.राजविंद्र सिंह ने बताया कि पुलिस इस मामले में मृतक परमिंद्र सिंह की पत्नी रमन के बयान पर धारा 174 के अधीन कार्रवाई कर पोस्टमार्टम के पश््चात शव परिजनों को सौंप दिया है।