पति को छोड़कर पत्नी किसी और के साथ बना रही थी वीडियो, और फिर जो हुआ जानिए....

टिकरापारा थाने के गोदावरी नगर स्थित एक गर्ल्स हॉस्टल में दो बहनों की सनसनीखेज मर्डर मिस्ट्री से पर्दा उठ गया है। पूरा षड्यंत्र एक बहन के पति ने रचा था। वो अपने दो साथियों के साथ मंगलवार सुबह हॉस्टल पहुंचा था और हत्याकांड को अंजाम दिया था। आरोपी अपनी पत्नी के किसी और के साथ TIK TOK वीडियो को देखकर बौखला गया था। उसे शक था कि उसकी पत्नी की वीडियो वाले उस शख्स से नजदीकियां बढ़ रही है। गुरुवार को पुलिस ने एक नाबालिग सहित तीनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया। मुख्य आरोपी सैफ रायगढ़ का रहने वाला है। दोनों बहनें भी इसी शहर से थीं। 
SSP आरिफ शेख ने बताया कि सैफ और मंजू सिदार ने लवमैरिज की थी। हालांकि कुछ समय से दोनों अलग रह रहे थे। घटना से तीन दिन पहले मंजू ने TIK TOK पर एक वीडियो अपलोड किया था। इसमें वो किसी दूसरे लड़के के साथ थी। सैफ यह बर्दाश्त नहीं कर पाया। उसे शक था कि मंजू और उस लड़के के बीच नजदीकियां हैं। इस वीडियो को देखने के बाद सैफ ने गुलाम मुस्तफा उर्फ काली और एक नाबालिग को पैसों का लालच देकर अपने षड्यंत्र में शामिल कर लिया। आरोपियों ने मंजू का बचाव करने आई उसकी बहन मनीषा को भी मार डाला था। घटना मंगलवार सुबह 11 से 11.30 बजे के बीच हुई थी। दोनों आरोपी  भागते समय सीसीटीवी कैमरे में कैप्चर हो गए थे।

मौत का कारण बन गया बहन का प्यार...
रायगढ़ की रहने वाली मनीषा साहू नर्सिंग द्वितीय वर्ष की छात्रा थी। वो यहां एक प्राइवेट हॉस्टल में रहती थी। उसके एग्जाम चल रहे थे। मदद के लिए कुछ दिन पहले ही उसकी बड़ी बहन मंजूलता सिदार उसके पास आई थी। मंगलवार सुबह मंजू का पूर्व प्रेमी सैफ खान अपने दोस्त के संग हॉस्टल जा पहुंचा था। खाना खाने के दौरान ही आरोपियों ने वहां रखा तवा और चाकू उठाया और मंजू पर हमला कर दिया। उसे बचाने आई मनीषा को भी उसने नहीं बख्शा। लड़कियों की चीख सुनकर दूसरे कमरों में रहने वालीं छात्राएं जब घटनास्थल पर पहुंचीं, तभी हमलावर कमरे से बाहर निकलते देखे गए। 
हमलावर भागते समय CCTV कैमरे में कैप्चर हो गए थे। हमलावर दोनों लड़कियों को बुरी तरह घायल करके निकल गए थे। दोनों को एम्बुलेंस से फौरान अंबेडकर अस्पताल ले जाया गया। वहां इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई। हॉस्टल के मालिक की सूचना पर डायल 112 मौके पर पहुंची थी। उसने दोनों घायल लड़कियों को हॉस्पिटल पहुंचाया, लेकिन उन्हें बचाया नहीं जा सका। प्रारंभिक जांच में सामने आया है कि सैफ और मंजू एक-दूसरे से लंबे समय से प्रेम करते आ रहे थे। पुलिस को सैफ के घर की तलाशी में उनकी शादी का दस्तावेज मिला है। आरोपी के मुताबिक, परिजनों के दबाव में मंजू ने उससे दूरी बना ली थी। कुछ समय पहले सैफ ने मंजू पर दबाव डालने अपनी शादी का एक फोटो फेसबुक पर वायरल कर दिया था। इसमें मंजू की मांग में सिंदूर दिख रहा था। मंजू के परिजनों ने इसकी शिकायत रायगढ़ के चक्रधर नगर थाने में दर्ज कराई थी। हालांकि बाद में मामला सुलझ गया था। 

पैसों के लालच में षड्यंत्र में हो गए शामिल...
सैफ ने काली को इस मर्डर में मदद करने के लिए 7 लाख रुपए का लालच दिया था। सैफ किसी भी कीमत पर मंजू को जिंदा छोड़ना नहीं चाहता था। पहले दोनों जांजगीर गए। वहां से एक नाबालिग को अपने साथ लेकर आए। उसे 15 हजार रुपए का ऑफर दिया गया था। आरोपी के मुताबिक, हॉस्टल पहुंचने पर मंजू से उसका झगड़ा हो गया। इस पर आरोपी ने उसका गला दबा दिया। जब मनीषा उसे बचाने आई, तो काली ने पास रखा तवे और चाकू से उस पर हमला कर दिया। नाबालिग घटनास्थल से कुछ दूर संतोषी नगर में बाइक से दोनों का इंतजार कर रहा था। पहले दोनों आरोपी ट्रेन से भागना चाहते थे। फिर सड़क के रास्ते दुर्ग की तरफ भाग निकले। यहां से बलौदाबाजार होते हुए जांजगीर पहुंचे। पुलिस बाइक के नंबर के आधार पर नाबालिग तक पहुंच गई थी। इस बीच सैफ और काली रीवा(मप्र) भाग निकले। लेकिन उन्हें सतना के पास से पकड़ लिया गया।