एक त्रिकोणीय प्यार के अंत होने की पूरी कहानी, जानिए क्या है ये पूरा मामला...

कानपुर जनपद के कस्बा घाटमपुर से 2 किलोमीटर दूर बडेरा गांव में बेदप्रकाश के बाग़ में एक युवक की पेड़ से लाश लटक रही थी। सारा गाँव इकट्ठा था। मृतक युवक का पिता जगमोहन दहाड़ मार -मार कर रो रहा था। पुलिस को फोन किया गया। थाना घाटमपुर के थानाप्रभारी अरविंद कुमार सिंह ने अपने सभी अधिकारियों को सूचना दी और मौके पर पहुँच गए। युवक पेड़ से इस तरह लटक रहा था कि उसके पैर जमीन से कुछ दूरी पर ही थे। युवक के शरीर पर चोट के भी काफी निशान थे। इससे आत्महत्या का ये केस और संदिग्थ हो गया। क्या वास्तव में उस युवक की ह्त्या के गयी थी या मामला कुछ और ही था। आइये पूरी घटना के बारे में जानते हैं।
बडेरा गांव अमित की शादी ममता के साथ बड़ी धूम धाम से हुई थी। ममता भी अमित जैसा पति पाकर बहुत ही खुस थी और अमित भी ममता की खूबसूरती का दीवाना हो गया। अमित इलेक्ट्रानिक का काम करता था और अच्छी कमाई कर लेता था। उसका जीवन बहुत ही मजे में कट रहा था। लेकिन कुछ दिन बाद उसकी भाभी को शायद अमित की ये सुखियाँ पसंद नहीं आयी और उसने घर सहित जमीन का बंटवारा कर लिया। इसके बाद अमित खेतों में काम करने लगा और काफी कमजोर भी हो गया।
एक दिन गाँव के ही जगमोहन का 19 वर्षीय लड़का अमित के घर पहुँच गया। उसका नाम शिवराम था। शिवराम पढ़ा लिखा था और काफी सज धज के रहता था। शिवराम को देखकर ममता बहक गई और उससे प्यार करने लगी। इसके बाद जब भी अमित खेतों पर चला जाता। वह दोनों आपस में मस्ती करते। इसके बाद एक दिन पास के ही गाँव का रहने वाला पप्पू यादव अमित के घर आ गया। उसकी अमित पर काफी उधारी थी। उसे देखकर भी ममता बहक गई और पप्पू यादव से प्यार कर बैठी। पप्पू यादव काफी पैसों वाला आदमी था। वह ममता पर काफी खर्च भी करने लगा था। इस बात का जब अमित को पता चला तो उसने घर को ही छोड़ दिया और घाटमपुर में रहने लगा। एक दिन शिवराम के साथ पप्पू ने ममता को देख दिया, तो उसने पूंछा तो उसने बताया कि वह उसका रिश्तेदार है और जबरदस्ती करता है।
3 नवम्बर 2019 को पप्पू ममता के घर में ही बैठा था। जिसको शिवराम देख नहीं पाया और ममता के साथ मस्ती करने लगा। ममता मना कर रही। लेकिन वह मान नहीं रहा था। इतने में पप्पू यादव आ गया और उसने पास पड़ी एक छड़ी से उसे पीटने लगा। शिवराम चिल्लाने लगा। तभी पीछे से आकर ममता ने आकर उसके सिर जोरदार कुछ मारा जिसके कारण शिवराम वही गिरकर बेहोश हो गया। इसके बाद पप्पू यादव ने उसका गला कर ह्त्या कर दी। इसके बाद उन दोनों ने शिवराम को बेदप्रकाश के बाग़ में लटका दिया। पुलिस ने जगमोहन के संदेह पर ममता और पप्पू को गिरफ्तार कर लिए। पहले तो ममता ना नुकुर करती रही किन्तु बाद में वह टूट गई और उसने पूरी घटना बता दी। पुलिस ने पप्पू यादव और ममता को शिवराम के मर्डर केस में जेल भेज दिया है।