सऊदी अरब में 34 भारतीय युवा फंस गए, वीडियो बनाकर लगाई मदद की गुहार

सऊदी अरब में राजस्‍थान समेत अन्‍य राज्‍यों के करीब 34 युवा फंसे हैं, जो देश वापसी के लिए सरकार से मद्द की गुहार लगा रहे हैं. सूत्रों ने बताया कि इन युवाओं ने वीडियो बनाकर सोशल मीडिया पर पोस्‍ट किया है जिसमें वह अपनी रिहाई के लिए मद्द मांग रहे हैं. इस वीडियो में उन पर हो रहे अत्‍याचार साफ नजर आ रहे हैं.
loading...
सऊदी अरब में फंसे युवा बता रहे हैं कि वह सऊदी अरब में बीते 06 महीने से फंसे हैं. इसके लिए वे भारतीय दूतावास (Embassy ) तक भी अपनी बात पहुंचा चुके हैं. मगर अभी तक उन्‍हें कोई मद्द नहीं मिली है. पिछले 6-7 महीनों से उन्‍हें वेतन भी नहीं मिल रहा है. ये सभी युवा एक ही कंपनी में काम करते हैं. ये सभी युवा राजस्थान के झुंझनु, सीकर, चुरु, जोधपुर, हनुमान गढ़ी के अलावा बिहार, पंजाब आदि राज्‍यों के हैं. ये सभी सऊदी अरब के तबुक शहर (Tabuk city) में स्थि‍त एक कैंप में बंद हैं. सीकर के मनोज कुमार, नागौर के प्रकाश, झुंझनू के हुकुमपुरा के शौकत ने वीडियो बना कर भेजा है. 

बताया जा रहा है कि इन युवाओं को वेतन भी नहीं मिल रहा है. इनका मेडिकल कार्ड भी नहीं बन पा रहा है. इनके पास जो रुपये थे वह भी खत्‍म हो चुके हैं. अब खाने के भी लाले पड़ जाएंगे. वीडियो में युवा आरोप लगा रहे हैं कि पाकिस्‍तान, बांग्‍लादेश के दूतावास अपने नागरिकों की परवाह कर रहे हैं, मगर भारत की ओर से उनकी ओर ध्‍यान नहीं दिया जा रहा है. शेखावटी में विदेश भेजने का बहुत बड़ा धंधा है. शहर में काफी फर्जी एजेंट हैं. वे विदेश जाने वाले युवाओं को फर्जी दस्‍तावेज बना कर भेज देते हैं. वे रुपये भी पूरे ले लेते हैं. अधिक वेतन का झांसा देकर युवाओं को फंसाया जाता है.