जिसके लिए युवती ने घर छोड़ा वही नहीं आया, फिर राह चलते युवक से मांगी मदद और फिर...

प्रेमी के कहने पर घर से भागी युवती शहदाना पर खड़ी घंटों इंतजार करती रही। राह चलते जिस युवक से फोन पर बात की, बाद में उसी के घर रात गुजार ली। युवक ने सुबह युवती को उसके भाई से मिलवाया तो पुलिस ने उसे पीट दिया, बाद में पता चला कि उसने युवती की मदद की थी। पुलिस ने उसे कहते हुए छोड़ दिया कि जब बुलाये तो कोतवाली आ जाना। कोतवाली के आजमनगर निवासी निदाम मंगलवार को ताऊ के घर जगतपुर गया था।
वापसी में टेंपो में बारादरी के शहदाना में प्रेमी का इंतजार कर रही प्रेमिका ने निदाम के मोबाइल से एक कॉल की। बात करने के बाद वह आत्महत्या करने की बात करने लगी। निदाम युवती को घर ले आया। निदाम के घरवालों ने रोक लिया। बुधवार सुबह युवती ने फोन से भाई से बात की तो भाई ने चौकी चौराहे मिलने को कहा। निदाम पत्नी के साथ युवती को लेकर चौकी चौराहे पहुंचा, यहां उसके भाई के सुपुर्द कर दिया। इसी बीच पुलिसकर्मी ने निदाम को पीटकर चौकी पर बैठा लिया। जबकि दंपति विरोध करते रहे कि उन्होंने युवती को घर में पनाह दी है। पता चला कि युवती प्रेमी के कहने पर घर से भागी। वह बरेली पहुंची लेकिन प्रेमी नहीं आया।