हल्द्वानी और बनभूलपुरा में बेटी ने अपने ही बाप का गला घोंटकर कर दिया हत्या, सामने आयी चौकाने वाली वजह

पिछले साल दिसम्बर के माह से हल्द्वानी में हत्याओं का सिलसिला शुरू हुआ जो रूकने का नाम नहीं ले रहा है। पहले भुप्पी हत्याकांड फिर नाजिम हत्याकांड के बाद अब एक बेटी ने बाप की हत्या कर दी जबकि इसी सप्ताह गौलापुल से छलांग लगाकर प्रेमी जोड़े ने आत्महत्या कर ली। मामला बरेली रोड स्थित चौधरी कॉलोनी का है। जहां मानसिक रूप से अस्वस्थ्य बेटी ने सेवानिवृत्त फौजी की हत्या कर दी। सूचना मिलते ही पुलिस बल मौके पर पहुंचा। शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।
loading...
बताया जा रहा है कि बरेली रोड स्थित चौधरी कॉलोनी निवासी सूर्य सिंह नेगी सेना से रिटायर हुए थे। उनकी छोटी बेटी ज्योति की ससुराल कोटाबाग में है। वर्तमान में दिल्ली रह रही थी। ज्योति का पति राजेंद्र कन्याल दिल्ली में प्राइवेट नौकरी करता है। इस बीच ज्योति की तबीयत खराब हुई वह मानसिक रूप से बीमार हो गई। विगत 15 जनवरी को ज्योति को उसका पति राजेंद्र इलाज के लिए हल्द्वानी लेकर आया। गुरुवार की सुबह राजेंद्र ने ज्योति का नवाबी रोड में रहने वाले मानसिक रूप चिकित्सक से उपचार कराया। 
इसके बाद वह ज्योति को पिता के पास छोडक़र कोटाबाग चला गया। पुलिस के मुताबिक शुक्रवार शाम करीब साढ़े चार बजे अचानक ज्योति को बीमारी का दौरा पड़ गया। उसने अपने पिता सूर्य सिंह का गला दबा दिया। गला दबाने के दौरान सूर्य सिंह ने किरायेदार राकेश को आवाज लगायी। आवाज सुनकर दो मंजिले पर रहने वाले राकेश के आने पर कमरा भीतर से बंद मिला। इस बीच राकेश से शोर मचाना शुरू कर दिया। जिससे और किरायेदार भी आ गये। 
लोगों ने खिडक़ी से झांका तो भीतर सूर्य सिंह जमीन पर अचेत पड़े थे। लोगों के दरवाजा तोडऩे की कोशिश करने के दौरान ही ज्योति ने खुद ही दरवाजा भीतर से खोल दिया। आनन-फानन में सूर्य सिंह को एसटीएच में भर्ती कराया गया लेकिन चिकित्सकों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। पुलिस ने ज्योति को एसटीएच के मानसिक रोग विभाग में भर्ती कराया गया है। बताया जा रहा है कि सूर्य सिंह ज्योति को लेकर रानीखेत अपने घर पूजा करने जाने वाले थे। आगे की कार्रवाई में पुलिस जुट गई।