पूरा देश नए साल का जश्‍न मना रही थी और ये जनाब अपनी आदत से बाज नहीं आए, जानिए क्या किया...

नए साल के जश्न में राष्ट्रीय राजधानी में मोबाइल चोरों ने खूब हाथ की सफाई दिखाई. यह अलग बात है कि दिल्ली का दिल कहे जाने वाले कनाट प्लेस में राजधानी की पुलिस इन शातिर चोरों पर उनसे कहीं ज्यादा भारी साबित हुई. जश्न मनाने आए लोगों के कीमती मोबाइलों पर चोरों ने जहां ताबड़तोड़ हाथ साफ किया, वहीं सादा कपड़ों में भीड़ में मौजूद दिल्ली पुलिस ने इन चोरों को मौके पर ही दबोचने में कोई कसर बाकी नहीं छोड़ी.
गुरुवार शाम आईएएनएस से बात करते हुए नई दिल्ली जिला पुलिस उपायुक्त (डीसीपी) ईश सिंघल ने कहा, "नए साल के पहले दिन हमें पता था कि इंडिया गेट और कनाट प्लेस में सबसे ज्यादा पर्यटक पहुंचेंगे. इसी के मद्देनजर हमने तिलक मार्ग और कनाट प्लेस थाने के अधिकांश पुलिसकर्मियों को सादे कपड़ों में भीड़ के बीच उतार दिया था, ताकि भीड़ में मौजूद संदिग्ध किस्म के लोगों को मौके पर ही दबोचा जा सके."
डीसीपी ने आईएएनएस से आगे कहा, "चौकसी टीम का इंचार्ज बनाया गया कनाट प्लेस सब-डिवीजन के सहायक पुलिस आयुक्त (एसीपी) अखिलेश्वर स्वरूप और एसएचओ इंस्पेक्टर कनाट प्लेस विनोद नारंग को. टीम में कनाट प्लेस थाने में तैनात मोबाइल चोरों को दबोचने में माहिर सब-इंस्पेक्टर राहुल सिंह, सहायक उप-निरीक्षक जयपाल सिंह, हवलदार अजीत शर्मा और दो सिपाही सुमित व अशोक को शामिल किया गया. 

शाम करीब पांच बजे एक पीड़ित ने पुलिस को बताया कि इनर सर्किल में उसका आईफोन जेब से निकाल लिया गया है. पुलिस टीम ने तुरंत सीसीटीवी और मुखबिरों की मदद से मोबाइल चोरों की गुपचुप पहचान कर ली. पहचान होने के एक घंटे के अंदर ही दिल्ली के कुख्यात जेबतराश और मोबाइल चोर सन्नी, सतनाम (दोनों तिलक नगर निवासी), टाइगर नौनिया सहित चार कुख्यात मोबाइल चोरों को मौके पर दबोच लिया."