केरल से आए एक युवक ने काशी में किया ऐसा काम, पहले लिखा...महादेव! प्लीज मेरा शरीर कहीं न भेजना

वाराणसी में एक होटल में केरल के युवक ने पंखे से फांसी लगाकर जान दे दी। इस घटना से पूरे होटल में हड़कंप मच गया। होटल स्टाफ तुरंत पुलिस को सूचना दी। पुलिस ने मौके पर पहुंच शव कब्जे में ले लिया और पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। साथ ही कमरे से एक सुसाइड नोट भी बरामद हुआ है, जिस पर लिखा है कि 'महादेव! प्लीज मेरे शरीर को कहीं न भेजना।' युवक की पहचान केरल के त्रिचूर से आए वैशाख एनवी है, जो 8 जनवरी को बनारस आया था। 10 जनवरी शुक्रवार शाम को युवक ने थाना दशाश्वमेध के हौज कटोरा स्थित भोलेनाथ गेस्ट हाउस के कमरे में फांसी लगा कर जान दे दी।
पुलिस ने मृतक के परिजनों को सूचना दे दी है। मृतक की एक छह महीने की बेटी है। परिजनों ने बताया कि उसने 11 जनवरी शनिवार सुबह बनारस एयरपोर्ट से नौ बजे की फ्लाइट से दोपहर दो बजे तक केरल पहुंचने की बात कही। होटल मालिक के अनुसार गुरुवार शाम को वैशाख से सही से बात हुई थी। इसके बाद वह अपने कमरे में चला गया था। जब शुक्रवार सुबह सफाई के लिए जब कर्मचारी गया तो दरवाजा नहीं खुला। इस दौरान कर्मचारी वापस लौट गया। उसके बाद फिर दोबारा दरवाजा खटखटाया गया, फिर भी दरवाजा नहीं खुला। 

तो फिर देर शाम पुलिस को सूचना दी गई। शुक्रवार देर रात दो बजे करीब मौके पर पहुंची थाना दशास्वमेध थाना पुलिस टीम, थाना प्रभारी सिद्धार्थ मिश्रा ने फॉरेंसिक  विभाग को सूचना दी। फोरेंसिक जांच की टीम ने रस्सी काटकर लाश को उतारकर जांच पड़ताल की। उसके बाद शव को मंडलीय अस्पताल कबीरचौरा भेजा गया। कमरे में तलाशी के दौरान इसके पास से नशीला पदार्थ, रुपये, सिगरेट और साथ मे दो बैग मिले हैं। पुलिस को कमरे से एक सोसाइड नोट भी मिला था, जिसमें लिखा है कि रिक्वेस्ट महादेव, प्लीज डू नॉट सेंड माई बॉडी एनीवेयर (महादेव! कृपया करके मेरे शरीर को कहीं नहीं भेजना)।