डिग्री दिलाने के नाम पर लाखों की ठगी, हिमाचल पुलिस ने दिया दबिश

शिक्षण संस्थानों में दाखिला एवं डिग्री दिलाने के नाम पर ठगी का खुलासा हुआ। 12 लाख रुपये के फर्जीवाड़े की जांच को आसनसोल पहुंची हिमाचल प्रदेश पुलिस ने यह खुलासा किया है। गिरोह की सरगना आसनसोल के चेलीडांगा निवासी नूतन राय बतायी जाती है। जिसकी तलाश में हिमाचल पुलिस ने आसनसोल साउथ पीपी एवं महिला थाना पुलिस को साथ लेकर छापेमारी की। आरोपित के न मिलने पर पुलिस ने उस घर पर ताला जड़ दिया। चेलीडांगा में इस घटना के बाद से आसपास के लोग हतप्रभ हैं। 
हिमाचल पुलिस की पांच सदस्यीय टीम का नेतृत्व कर रही हिमाचल की महिला पुलिस थाना की प्रभारी वीणा पॉल के नेतृत्व में आरोपित नूतन राय के घर पर बुधवार की रात को छापा मारा। उन्होंने बताया कि जब वे लोग रात को घर में छापा मारने गये तो घर के अंदर की सभी लाइट जल रही थी। जिसे लेकर वे लोग घर के बाहर इंतजार करने लगे। हालांकि रात बीतने के बाद भी सुबह घर से कोई बाहर नहीं आया तो गुरुवार की दोपहर को आसनसोल साउथ प्रभारी अमित हलदार को साथ लेकर घर का ताला तोड़ा गया। इसके बाद घर की तलाशी की गई। घर में कोई नहीं मिला।

महिला थाना के प्रभारी वीणा पॉल ने बताया कि नूतन राय फर्जी तरीके से छात्रों से ठगी कर रही थी। उसके खिलाफ थाने में लगभग 12 लाख रुपये के फर्जीवाड़े की प्राथमिकी दर्ज कराई गई है। इसमें पाया कि नूतन ने गलत तरीके से एक वेबसाइट के माध्यम से छात्रों से पैसे वसूलती थी। न जाने कितने छात्रों का भविष्य को नूतन ने खतरे में डाल दिया है। जानकारी के अनुसार चेंजिग लाइफ थ्रू एजुकेशन नामक संस्था के नाम पर फर्जीवाड़ा कर रही थी। वह राजस्थान, मध्य प्रदेश और हिमाचल प्रदेश में विभिन्न डिग्री कॉलेजों में दाखिला व डिग्री दिलाने का सब्जबाग दिखाती थी। 

आइएसई, पीवीआर, केएसओयू, एनआइओएस, आइजीएलओयू, एनआइएमएस, संत जोसेफ आइएआर तथा दक्षिण भारत हिदी प्रचार आदि संस्थानों के नाम पर ठगी कर रही थी। साथ ही टेक्निकल कोर्स में डीसीई, डीएमई, डीईईई, डीसीटी,डीईसीई, विभिन्न डिप्लोमा कोर्स, बीटेक, एमटेक आदि में 50 प्रतिशत अंक तथा नौकरी की गारंटी देने की बात कही गई थी। हालांकि हिमाचल पुलिस ने नूतन राय को गिरफ्तार करने में असफल रही। लेकिन नूतन के घर में ताला बंद कर चाबी साउथ पीपी को सौंप दी।