प्रेमिका को अपने साथ ले जाने घर पहुंचा था प्रेमी, भाईयों ने मारकर उसको जंगल में फेंक दिया

loading...
कोटा के देवलीमांझी थानाक्षेत्र में प्रेमनगर द्वितीय निवासी महेन्द्र गुर्जर की हत्या प्रेम संबंध के चलते हुई थी। प्रेमिका के घर पहुंचकर उसे जबरन ले जाने की जिद के बाद प्रेमिका के भाइयों समेत परिजनों ने उसकी पीट-पीट कर हत्या कर दी और शव भांडाहेड़ा के निकट फैंक दिया। इस मामले में पुलिस ने मंगलवार को चार आरोपियों सीमलिया थाने के रेलगांव निवासी मुकेश गुर्जर, कृष्णावतार उर्फ भाया, मनोज उर्फ मोनू गुर्जर व रामसिंह गुर्जर को एरोड्राम से गिरफ्तार किया।
कोटा ग्रामीण एसपी राजन दुष्यन्त ने बताया कि आरोपियों ने प्रारंभिक पूछताछ में बताया कि उसकी बहन का ससुराल टोंक में है और वह वर्तमान में पति के साथ श्रीनाथपुरम में रहती है। जिसका प्रेम प्रसंग महेन्द्र गुर्जर से था। दोनों एक पखवाड़े पहले घर से गायब हो गए। समाज के लोगों की समझाइश के बाद आरोपियों की बहन को रेलगांव छोड़ दिया गया। लेकिन इसके बाद महेन्द्र गुर्जर रेलगांव पहुंच गया और प्रेमिका को जबरन ले जाने की जिद करने लगा। इसको लेकर झगड़ा हो गया। चारों आरोपियों ने उससे मारपीट की, जिससे उसकी मौत हो गई।
टोंक जिले के रतनपुरा गांव निवासी हाल मुकाम प्रेमनगर द्वितीय श्योजीलाल गुर्जर (45) ने पुलिस में दर्ज करवाई रिपोर्ट में बताया कि उसका पुत्र महेन्द्र गुर्जर (22) चालक था। वह 12 बजे करीब घर से बिना बताए निकला। बाद में भांडाहेड़ा के निकट शव मिलने की सूचना उसे एमबीएस पुलिस से मिली थी। उसने शक जताया कि उसकी हत्या पुरानी रंजिश के चलते मुकेश व उसके भाई भाया ने की है। पुलिस आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज कर तफ्तीश शुरू की थी।