खुद बारात लेकर हाथ में तलवार और घोड़ी पर चढ़कर यह सगी बहनें पहुंची दूल्हे के घर पर, और फिर जानिए क्या हुआ...

दो बहनों की शादी मध्यप्रदेश के खंडवा जिले में चर्चा का विषय बन गई। वास्तव में, साक्षी और सृष्टि नाम की दो बहनें अपनी बारात लेकर हाथ में तलवार लेकर घोड़ी पर सवार हुईं। दुल्हन को घोड़ी पर सवार देखकर राहगीरों के कदम थम गए। शादी के मंडप में मौजूद दूल्हे भी थिरकने लगे। कहा जाता है कि यह पाटीदार समुदाय में एक परंपरा है। साक्षी और सृष्टि की शादी 22 जनवरी को एक ही दिन संपन्न हुई। 
loading...
साक्षी और सृष्टि नाम की दो बहनें अपनी बारात लेकर घोड़ी पर सवार होकर हाथ में तलवार लेकर दूल्हे के घर बारात लेकर पहुंची। साक्षी ने आनंद के साथ तो सृष्टि ने शशांक के साथ सात फेरे लिए। दुल्हन बहनों के पिता ने कहा कि यह पाटीदार समुदाय की बहुत पुरानी परंपरा है। सरकार के बेटी बचाओ अभियान में सहयोग करना समाज का दायित्व है। बेटियों को बेटों के समान महत्व दिया जाना चाहिए और उनके साथ समान व्यवहार किया जाना चाहिए। पाटीदार समुदाय की इस परंपरा के पीछे यही उद्देश्य है।
दुल्हन शादी की पोशाक में थी। उनके सिर पर केसरिया, आंखों में चश्मा और हाथ में तलवार थी, जब दुल्हनें विवाह स्थल के लिए रवाना हुईं, तो हर कोई उन्हें देखने के लिए रुक गया। शादी समारोह के माध्यम से समाज को एक संदेश देने वाली शादी काफी चर्चा में रही। शादी में शामिल होने वाले हर मेहमान को छायादार और औषधीय पौधे भेंट किए गए। इन पौधों में 51 पीपल, 51 नीम और 51 तुलसी थे। शादी के बारे में, दुल्हन के चाचा दीपक पाटीदार ने कहा, 'हमने एक नई पहल की है। उम्मीद है, लोग इसे शादी के रिवाज में शामिल करेंगे। अगर पौधों को बच्चों की तरह पाला जाए, तो हमें प्रदूषण से मुक्ति मिलेगी।