बिना बताए शादी करने से नाराज़ था प्रेमी और फिर प्रेमिका के साथ जो किया जानकर हैरान होंगे आप...

बलरामपुर जिले के बरियों चौकी अंतर्गत नवविवाहिता की हत्या की गुत्थी पुलिस ने 24 घंटे के भीतर सुलझा ली है। नवविवाहिता 15 दिसंबर को टॉयलेट के लिए घर से निकली थी लेकिन फिर नहीं लौटी। 13 दिन बाद उसकी लाश गांव से लगे कब्रिस्तान के पास झाडिय़ों में मिली थी। नवविवाहिता की हत्या उसके ही प्रेमी ने की थी। प्रेमी इस बात से नाराज था कि उसने उससे बिना पूछे दूसरे से शादी क्यों की। बातचीत के बहाने उसे प्रेमी ने रोका था और उसके ही स्कार्फ से गला घोंटकर हत्या कर दी थी। पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। 
loading...
गौरतलब है कि बरियों चौकी अंतर्गत ग्राम पंचायत अमड़ीपारा निवासी संगीता अगरिया पिता कुंवर साय 21 वर्ष की शादी 5 महीने पूर्व कोरबा में हुई थी। कुछ दिनों पूर्व वह अपने मायके आई थी। 15 दिसंबर की दोपहर वह टॉयलेट के घर से निकली थी लेकिन वापस नहीं लौटी थी। परिजनों के काफी खोजबीन के बाद भी जब वह नहीं मिली तो उसके पिता ने 17 दिसंबर को इसकी सूचना बरियों चौकी में दर्ज कराई। पुलिस गुम इंसान का मामला कायम कर उसकी खोजबीन में जुटी थी। 
इसी बीच 28 दिसंबर को नवविवाहिता के पिता ने चौकी पहुंचकर सूचना दी कि उसकी बेटी की लाश गांव से लगे कब्रिस्तान पास झाडिय़ों में पड़ी है। सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंची और पंचनामा पश्चात शव का पीएम कराया। शॉर्ट पीएम में डॉक्टरों ने गला दबाकर हत्या की पुष्टि की थी। वारदात की सूचना मिलते ही बलरामपुर एसपी टीआर कोशिमा ने एक टीम का गठन का आरोपी को पकडऩे के निर्देश दिए। एसपी ने एएसपी प्रशांत कतलम व एसडीओपी एनएल धृतलहरे के नेतृत्व में बरियों चौकी प्रभारी रूपेश नारंग व टीम को इसकी जिम्मेदारी दी। 
पुलिस ने मुखबिरों को तैनात किया तो पता चला कि नवविवाहिता की पहचान गांव के दारापतरा निवासी शत्रुघ्र राम टेकाम पिता कृष्ण 22 वर्ष से थी। उसी ने 15 दिसंबर की दोपहर युवती के स्कार्फ से गला घोंट कर उसकी हत्या कर दी थी। पुलिस ने युवक को हिरासत में लेकर पूछताछ की तो उसने हत्या की बात स्वीकार कर ली। उसने बताया कि घटना दिवस उसने युवती को यह कहकर रोका कि वह उससे कुछ बात करना चाहता है। इस बीच उसने कहा कि उसने बिना उससे पूछे दूसरी जगह शादी क्यों की, इसके बाद उसने युवती के स्कार्फ से ही उसकी गला घोंटकर हत्या कर दी और लाश छोडक़र घर चला आया।