आखिर खुल ही गया दीपक के कत्ल का राज, आरोपियों ने पूछताछ में बता दिया हत्या की असली वजह

मुजफ्फरनगर जनपद में मीरापुर के गांव शिवपुरी में स्थित मुर्गी फॉर्म पर 28 नवंबर की रात की गई हत्या का खुलासा हो गया है। पुलिस ने बताया कि गांव जमालपुर निवासी दीपक की हत्या बैटरी चोरी करने के लिए की गई थी। चोरी किए गए बैटरी को हत्यारोपियों ने महज तीन हजार रुपये में बेचा था। पुलिस ने दो हत्यारोपियों को गिरफ्तार कर वारदात का खुलासा कर दिया। पुलिस लाइन स्थित सभागार में बुधवार को प्रेसवार्ता करते हुए एसएसपी अभिषेक यादव ने बताया कि 28 नवंबर की रात मीरापुर क्षेत्र के गांव शिवपुरी में स्थित मुर्गी फॉर्म में सोए दीपक (19) पुत्र बाबूराम की धारदार हथियारों से काटकर हत्या कर दी गई थी। इंस्पेक्टर पंकज त्यागी के नेतृत्व में गठित पुलिस टीम ने दो आरोपियों मोनू पुत्र समयसिंह, निवासी गांव शिवपुरी और बिल्लू ठाकुर पुत्र पालू राम, निवासी गांव सोंटा मंसूरपुर को गिरफ्तार किया। आरोपियों की निशानदेही पर दीपक की हत्या में प्रयुक्त छुरी, बाइक और फॉर्म से लूटा गया बैटरी बरामद किया गया है। 
एसएसपी ने बताया कि दोनों आरोपी 28 नवंबर की रात मुर्गी फॉर्म में महज बैटरी चोरी करने के इरादे से जाली तोड़कर घुसे थे। आहट सुनकर अंदर सोया दीपक जाग गया, जिसने एक आरोपी को पकड़ लिया था। इसके बाद आरोपियों ने दीपक की छुरी से ताबड़तोड़ वार कर उसकी हत्या कर दी और अंदर रखा बैटरी लूटकर फरार हो गए। लूटा गया बैटरी आरोपियों ने मीरापुर के ही राम सुधीर को महज तीन हजार रुपये में बेचा था, जिसे उसने घर में चलाने के लिए लिया था। रामसुधीर की भी तलाश की जा रही है। 

गांव जमालपुर के बाबूराम गांव शिवपुरी में स्थित मुर्गी फॉर्म पर चौकीदारी करते थे। दो माह से पत्नी रचना की तबीयत खराब होने के चलते वह घर पर रहने लगे थे और बड़ा बेटा दीपक उनके स्थान पर फॉर्म पर जाने लगा था। आत्मसुरक्षा के लिए दीपक अपने साथ एक छुरी रखकर सोता था। वहीं 28 नवंबर की रात जब दोनों आरोपी बैटरी चोरी करने फॉर्म में घुसे, तो दीपक उनसे भिड़ गया और एक आरोपी को पकड़कर छुरी से दूसरे को डराने लगा। इस पर दूसरे हत्यारोपी ने दीपक से छुरी छीनकर उसी पर ताबड़तोड़ वार कर दिए, जिससे दीपक की मौत हो गई। इस दौरान हत्यारोपी के हाथ की तीन उंगलियां भी छुरी लगने से जख्मी हो गईं थी, जिन पर उसने पट्टी करा रखी है।