जिस 8 साल के बेटे को ढूंढ रहे थे उसके माता पिता, एक महीने बाद वह मिला लेकिन....

एक महीने पहले माता-पिता ने पुलिस में रिपोर्ट दी थी कि उनका 8 साल का बेटा लापता हो गया है। पुलिस ने गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कर बच्चे की काफी तलाश की। लेकिन, बच्चा कहीं नहीं मिला। इधर, बेटे के लापता हो जाने से माता-पिता का बुरा हाल था। एक महीने बाद सूचना मिली कि रेलवे लाइनों के पास नाले में एक शव मिला है। पुलिस मौके पर पहुंची और शव को बाहर निकलवाया। पुलिस ने शव की शिनाख्त के लिए उन्हें मौके पर बुलाया। शव देखते ही माता-पिता पर दूखों का पहाड़ टूट पड़ा। जिस बेटे की वह एक महीने से तलाश कर रहे थे उसका शव नाले में तैरता मिला। मामला राजस्थान के सीकर का है। डीएसपी राजेश आर्य ने बताया कि बच्चे की शिनाख्त गणेश पुत्र किशनलाल के रूप में हुई थी।
नरेला जयपुर ग्रामीण के रहने वाले है। बच्चे का परिवार रेलवे स्टेशन के पास ही रहकर मजदूरी करता है। उन्होंने बताया कि रेलवे जीएम के दौरे के कारण रेल पटरियों के पास बने नाले की सफाई करवा रहे थे। तभी उन्हें नाले में बच्चे के पैर दिखाई दिए। तब वे वहां से निकल गए। गुरूवार शाम को राधाकिशनपुरा में रेल पटरियों के पास बने नाले में बच्चे के शव मिलने की सूचना मिली। नाला काफी गहरा था और कचरा भी भरा हुआ था। डीएसपी राजेश आर्य, कोतवाल कन्हैयालाल, एसआई अनीता, कंचन, ब्रिजेश सिंह, एएसआई प्रभू सिंह मौके पर पहुंचे। नाला काफी गहरा था। बच्चे के पैर ही दिखाई दे रहे थे। काफी प्रयास के बाद शव नहीं निकाला जा सका। 

इसके बाद सिविल डिफेंस व नगरपरिषद की टीम को भी बुलाया गया। जेसीबी के जरिए एक युवक को नाले में उतारा गया। इसके बाद कड़ी मशक्कत से रस्सों से स्टैचर पर बांध कर शव को बाहर निकाला गया। उन्होंने बताया कि 6 जनवरी को बच्चे की गुमशुदा होने की रिपोर्ट दर्ज कराई गई थी। उन्होंने बताया कि एक महीने से नाले में बच्चे का शव पड़ा हुआ था। ऐसा हो सकता है कि पतंग लूटते समय बच्चे की नाले में गिर जाने से मौत हुई। नाले में गिरने के कारण किसी को उसका पता नहीं लग सका। वह परिवार के साथ स्टेशन के आसपास ही रहता था।