जिगर के टुकड़े को मां ने गोदी में उठाया, पिता ने हाथ में सिलेंडर, और फिर पहुंच गए जांच कराने

ग्वालियर के अंचल के सबसे बड़े अस्पताल की स्वास्थ्य सेवाएं बदहाल हैं। केआरएच के पीआईसीयू में भर्ती एक बच्चे को सांस लेने में परेशानी थी। उसकी जांच कार्डियक विभाग में होना थी। शुक्रवार को डॉक्टर ने शिशु को मां की गोदी में ऑक्सीजन मास्क लगाकर सिलेंडर पिता के हाथ में थमा कर जांच करवाने भेज दिया।
गजब की बात यह थी कि माता पिता के साथ न तो कोई स्टाफ भेजा और न हीं एंबुलेंस भेजी। बच्चे की जांच के लिए माता पिता पैदल ही चल दिए ,हालांकि रास्ते में उन्हें ऑटो मिला तो उसमें सवार होकर कार्डियक विभाग पहुंचे। यदि इस बीच बच्चे के मुंह से ऑक्सीजन मास्क हट जाता गंभीर घटना घट सकती थी। लेकिन इससे बे-परवाह जिम्मेदार डॉक्टरों ने बिना सुरक्षा इंतजाम के ही बीमार बच्चे की जांच करवाने भेज दिया।

गौरतलव है कि शुक्रवार को एक बच्चे को सांस लेने में परेशानी हो रही थी। जिसके चलते उसे केआरएच के बाल एवं शिशुरोग विभाग में भर्ती किया गया था। बच्चे की परेशानी को देखते हुए,उसकी जेएएच के कार्डियक विभाग में जांच करवानी थी। डॉक्टर ने बच्चे के मुंह पर मास्क लगाकर मां की गोदी में दे दिया और ऑक्सीजन सिलेंडर उसके पिता के हाथ में थमा कर जांच करवाने भेज दिया।