पति ने झाड़ी पकड़कर बचाई जान, गर्भवती पत्नी नहर में जा गिरी...

माधोपुर में दर्दनाक हादसे में गर्भवती महिला की मौत हो गई। स्कूटी के स्किड करने से पति-पत्नी नहर में जा गिरे। हादसे में पति ने झाड़ी पकड़कर खुद को बाहर निकाल लिया लेकिन नहर के तेज बहाव में महिला बह गई। इस दुखद हादसे में मौत के बाद परिजनों और पुलिस ने महिला के पेट में पल रहे आठ माह के शिशु को बचाने के प्रयास को लेकर उसे अस्पताल पहुंचाया, लेकिन गर्भ में पल रही बच्ची की भी तब तक सांसे थम चुकी थी। मृतका की पहचान सुनीता देवी (28) पत्नी देवेंद्र सिंह निवासी गुगरां सुजानपुर के रूप में हुई है। शुक्रवार को देवेंद्र सिंह स्कूटी पर सवार सुनीता को जुगियाल में होने वाली विभागीय बैठक के लिए लेकर जा रहा था। 
जब दोनों माधोपुर नहर के किनारे से गुजरने लगे तो स्कूटी का टायर स्लिप हो गया और दोनों रेलिग से टकराकर वाहन समेत पानी में गिर गए। पानी बहाव तेज होने के कारण देवेंद्र और सुनीता खुद को संभाल नहीं सके और पानी ने उन्हें बहा ले गया। देवेंद्र सिंह ने झाड़ियों को पकड़कर जान बचाई और खुद को बाहर निकाला। उसके शोर मचाने के बाद लोगों ने नहर में सुनीता की तलाश शुरू की। काफी दूर तक जांच करने पर उसका पर्स एवं जूते मिले और करीब दो किमी. दूर पुल नंबर एक के पास सुनीता का शव मिला। लोगों ने 108 के कर्मचारियों को सूचित कर दोनों को सिविल अस्पताल पठानकोट पहुंचाया। 

चिकित्सकों ने जांच के बाद सुनीता और उसके गर्भस्थ बच्चे को मृत घोषित कर दिया। वहीं, देवेंद्र सिंह का उपचार करने के बाद उसकी हालत अब स्थिर है। वहीं, थाना प्रभारी भारतभूषण ने कहा है कि पुलिस ने मामला दर्ज कर आगामी छानबीन शुरू कर दी है। सुनीता कैलाशपुर स्थित डिस्पेंसरी में एएनएम थी। देवेंद्र सिंह निजी बैंक में कायर्रत है। दोनों का विवाह अभी तीन साल पहले हुआ था। परिजनों ने बताया कि देवेंद्र सिंह की गोद में एक माह बाद पहला बच्चा आने वाला था। हादसे में अपनी पत्नी और बच्चे को खोने के बाद देवेंद्र गहरे सदमे हैं और उसे सिविल अस्पताल में दाखिल करवाया गया है।