शराब पीने आते थे लाखों रुपए का कलेक्शन देखकर चोरी की बनाया योजना, तीन चोर हुए गिरफ्तार

रायपुर माना के डुमरतराई शराब दुकान में हुई लाखों की चोरी का पुलिस ने खुलासा कर दिया। चोरी करने वाले तीन आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। आरोपियों में दो सगे भाई हैं और पहले भी कई चोरियां कर चुके हैं। आरोपियों से 12 लाख रुपए से अधिक की राशि बरामद हुई है। बाकी राशि बरामद करने के पुलिस ने आरोपियों का रिमांड लिया है।
मामले का खुलासा करते हुए एसएसपी आरिफ शेख ने बताया कि 2-3 फरवरी की रात अंग्रेजी शराब दुकान में 27 लाख 70 हजार की चोरी हो गई थी। इसकी जांच के दौरान पुलिस को शातिर चोर सचिन नेताम(देवार) को संदिग्ध रूप से काफी पैसे खर्च करने की सूचना मिली। इसके बाद उसे पकड़ा गया। पूछताछ में पहले वह पुलिस को उलझाता रहा। बाद में उसने अपने भाइ्र लखन नेताम और एक अन्य साथी उमेश नेताम के साथ शराब दुकान में चोरी करना स्वीकार किया। आरोपियों के पास से 12 लख 75 हजार और चोरी के दो लाख रुपए से खरीदे गए गहने जब्त कर लिए। तीनों को पुलिस रिमांड पर लिया जा रहा है।

सचिन पिछले कुछ दिनों से नवा रायपुर के ऊपरवारा में किराए के मकान में रह रहा था। बाकी आरोपी भी उसके घर आना-जाना करते थे। तीनों शराब पीने के लिए रोज डुमरतराई शराब दुकान जाते थे। इस दौरान शराब दुकान में बिक्री के लाखों रुपए एकत्र होते देखते थे। इसके अलावा सुरक्षा व्यवस्था को लेकर भी कई खामियां उनको नजर आती थी। इसका फायदा उठाते हुए उन्होंने चोरी की योजना बनाई। तीनों घटना वाली रात शराब दुकान पहुंचे। देर रात तक वहां घूमते रहे। आधी रात जब शराब दुकान के सुरक्षागार्ड सोने चले गए, तो उन्होंने दुकान के पिछले हिस्से से प्रवेश किया और लॉकर वाले कमरे में पहुंचे। 

लॉकर खोलने का प्रयास किया, तो इसमें सफल नहीं हुए। इसके बाद उन्होंने लॉकर को ही निकाल लिया और गाड़ी रखकर भाग निकले। इसके बाद करीब एक किमी दूर जाने के बाद खेत में लॉकर को तोड़ लिया और पूरी राशि लेकर भाग निकले। सचिन बिलासपुर के चकराभाठा चला गया और लखन चिरमिरी चला गया। उमेश भी फरार हो गया। फिर सचिन रायपुर लौटा और भारी पैसा खर्च करने लगा। इसकी सूचना पर पुलिस ने उसे पकड़ा। इसके बाद पूरे मामले का खुलासा हो गया। सचिन और लखन कई चोरियों में शामिल रहे हैं। पुलिस ने तीनों को तीन दिन की पुलिस रिमांड पर लिया है।