10 सेकंड तक सांस को रोककर ऐसे पता लगा सकते हैं कोरोनावायरस है या नहीं

जैसा कि आप सभी जानते हैं आज क्रोना वायरस दुनिया भर में फैल चुका है और भारत में भी यह तेजी से फैल रहा है, इस वायरस के चलते अभी तक भारत में 2 मौत हो चुकी है, जबकि दुनियाभर में 4984 मौत हो चुकी है, यह वायरस बड़ी तेजी से पूरी दुनिया में फैलता जा रहा है, साथ ही जितनी जल्दी यह वायरस फैल रहा है उतनी ही जल्दी इससे जुड़ी अफवाह भी फैल रही है, आप देख रहे होंगे व्हाट्सएप, फेसबुक और सोशल मीडिया के अन्य प्लेटफार्म पर कोरोना वायरस के अनेकों प्रकार के इलाज, बचाओ, जांच और खान-पान से लेकर दवाइयां तक बताई जा रही है।
जबकि कोरोना वायरस से लड़ने के लिए या इससे बचने के लिए अभी तक कोई भी दवा या वैक्सीन तैयार नहीं हो पाई है, जबकि इस वायरस को पहचान कर इसका तुरंत इलाज किया जा सकता है और इससे काफी हद तक राहत भी पाई जा सकती है, यह वायरस किसी भी व्यक्ति को हो सकता है, इसीलिए इस वायरस से बचने के लिए कई प्रकार के निर्देश भी दिए जा रहे हैं, ऐसे में यदि आपको लगता है कि यह वायरस आपको तो नहीं हो गया है ऐसे में आप इसकी जांच कर सकते हैं, इसके लिए बस आपको 10 सेकेंड तक अपनी सांस को रोकना होगा, ऐसा करके आप घर पर ही इसकी जांच कर सकते हैं, इस बात में कितनी सच्चाई है वह हम आपको बताने वाले हैं, तो चलिए फिर जान लेते हैं|
ताइवान के कुछ एक्सपर्ट्स का मानना है कि यदि व्यक्ति एक गहरी सांस लें और 10 सेकंड तक इसे रोक कर रखें तो उस दौरान बिना खांसी या जकड़न के आप 10 सेकंड तक अपनी सांस रोकने में कामयाब हो गय तो फेफड़ों में फाइब्रोसिस नहीं होता इसका अर्थ है कि आपके शरीर में कोई संक्रमण नहीं है|
जबकि स्नोपेस की एक रिपोर्ट के अनुसार फेफड़ों की क्षमता कम हो जाती है और इस दौरान सांस को रोकना मुश्किल होता है, यह कोई वैज्ञानिक धारणा नहीं है आप 10 सेकेंड तक सांस रोककर स्वास्थ्य संबंधित खतरे की पहचान कर सकते हैं, इसके अलावा कुछ अन्य कारण भी है जिसकी वजह से आप अपनी सांस नहीं रोक सकते जैसे की एलर्जी, पुरानी बीमारी, अस्थमा, संक्रमण आदि चीजें शामिल है, किसी भी प्रकार की जांच में 10 सेकंड तक सांस को रोकने का कोई उपाय शामिल नहीं है|