कोरोना : इन 2 दवाओं से इस मरीज ने हरा दिया कोरोना वायरस को, सभी के काम आएगी इनकी ये सलाह

राज्य में अबतक कोरोना के 16 पॉजिटिव केस सामने आ चुके है। जिसमें दो लोगों की मौत हुई है। जबकि एक मरीज ठीक हो कर अपने घर लौटी है। कोरोना को हराने वाली राज्य की पहली मरीज ने कहा अपने अनुभव साझा करते हुए कहा कि पॉजिटिव माइंडसेट के साथ डॉक्टर की हर बात पर अमल करना चाहिए। सही सलाह और संयम के बल पर बीमारी को दूर किया जा सकता है। बता दें कि कोरोना की इस मरीज को अब अस्पताल से फुर्सत मिल चुकी है। अब अपने परिवार के साथ घर पर क्वालिटी टाइम स्पेंड कर रही है। 
कोरोना को हराने वाली राज्य की पहली मरीज मूल रूप से केरल की रहने वाली है। लेकिन इनका पूरा परिवार पटना में रहता है। 20 मार्च को 35 वर्षीय अनीता विनोद को पटना के एम्स में एडमिट किया गया था। 30 मार्च को उनका दूसरा रिपोर्ट भी निगेटिव आया, जिसके बाद उन्हें घर भेज दिया गया। अनीता का परिवार पटना के दीघा इलाके में एक अपार्टमेंट में रहता है। अनीता के पति वेकंट रमण टेक्सटाइल इंजीनियर हैं। उनका बड़ा लड़का 5 मार्च को इटली से वापस आया था। वहीं छोटा लड़का पटना में रहकर पढ़ाई करता है। 

अनीता ने बताया कि वो 2 मार्च को नेपाल गई थी। वहां से लौटने के बाद 16 मार्च को उन्हें सर्दी-खांसी, बुखार और सांस लेने में तकलीफ महसूस हुई। कोरोना का सिमटम देख वो अपने बेटे के साथ एम्स इलाज कराने पहुंची। जहां ट्रैवल हिस्ट्री के आधार पर इटली से लौटे उनके लड़के का भी टेस्ट किया गया। हालांकि उसका रिपोर्ट निगेटिव आया। लेकिन अनीता को संदिग्ध मरीज बता डॉक्टरों ने आइसोलेशन में जाने की सलाह दी। जिसके बाद अनीता आइसोलेशन में एडमिट हो गई। 22 को उनकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई। लेकिन वो डॉक्टरों के कहे अनुसार सभी प्रोसेस को फॉलो करती गई।