जिस समस्या को भारत और पूरी दुनिया सालों से नहीं सुलझा पा रही थी वो कोरोना ने पल भर में सुलझा दी

कोरोना से होने वाले संकम्रण की संख्या दिनों दिन बढ़ती जा रही है और हजारों की संख्या में लोग अपनी जान गवां चुके हैं लेकिन इसका एक पॉजिटिव पहलु भी दिख रहा है।
लॉकडाउन होने से अब ना सड़कों पर गाड़ियां हैं ना कोई फैक्ट्री चल रही है और ना ही प्रदूषण फ़ैल रहा है। इसका असर प्रकृति पर देखने को मिल रहा है और ओजोन लेयर का छेद अब भरना शुरू हो गया है।

यूनिवर्सिटी ऑफ कोलोराडो बोल्डर के रिसर्चर्स ने खुद इस बात का खुलासा किया है कि ओजोन लेयर का छेद अब भर रहा है। क्योकिं चीन में भी पॉल्यूशन लेवल कम है और इस से दक्षिणी हिस्से के अंटाकर्टिका तक प्रदूषण के ना पहुंचने से ये छेद भरने लगा है।

पृथ्वी के ऊपर चलने वाली जेट स्ट्रीम यानी ऐसी हवा जो कई देशों के ऊपर से गुजरती है वह पहले दक्षिण हिस्से की तरफ जा रही थी लेकिन अब वह पलट गई है।

कार्बनडाईऑक्साइड भी काफी कम मात्रा में बन रहा है और इस से ओजोन लेयर भरना शुरू हो गई है। ऐसे ही पूरी दुनिया प्रदूषण कम करे तो ऑस्ट्रेलिया का मौसम सुधर जाएगा।
ऐसा होने से पृथ्वी का तापमान बढ़ना कम हो जाएगा। ग्लोबल वार्मिंग घटेगी और प्रदूषण का लेवल कम होने से बहुत से अच्छे परिणाम हमें देखने को मिलेंगे।