मनावर में प्रेमिका को चाकू से गोदकर थाने पहुंचा प्रेमी

नगर के ग्रीन गार्डन कॉलोनी में निवासरत जेल प्रहरी की त्रिकोणीय प्रेम प्रसंग में प्रेमी ने चाकू से गोदकर हत्या कर दी। चार साल से दोनों का प्रेम प्रसंग चल रहा था, लेकिन प्रेमिका किसी और से प्यार करने लगी थी। उसने पहले प्रेमी से शादी करने से इंकार कर दिया।
दोनों के बीच विवाद हुआ तो प्रेमी ने चाकू से गोदकर उसे मौत के घाट उतार दिया। घटना को अंजाम देने के बाद आरोपित खुद ही थाने पहुंच गया और हत्या करना स्वीकार किया। सूचना पर थाना प्रभारी एमपी वर्मा, एसएफएल अधिकारी पिंकी मेहरड़े, केंद्रीय जेल बड़वानी के डिप्टी सुप्रींटेंडेंट एसबी शरण व उप जेलर संजय परमार मौके पर पहुंचे।

जेल प्रहरी रानू (25) पिता संतोष वर्मा निवासी भोगावां निपानी (खरगोन) की रहने वाली थी। वर्तमान में वह मनावर में किराए के मकान में रहती थी। तेजू (27) उर्फ तेजस पिता अमरनाथ मौर्य निवासी बोथली पोस्ट पोंगरी तहसील सोहागराज (शहडोल) से उसका प्रेम प्रसंग था।
तेजू ने सुबह करीब 5 बजे रानू की चाकू से हमला कर हत्या कर दी। रानू की गर्दन में कसी रस्सी भी मिली। हत्या करने के बाद आरोपित तेजू खिड़की से करीब 15 फीट नीचे कूदकर पड़ोसी की छत से होकर उतरा। सुबह 5:30 बजे के करीब खुद थाने पहुंच गया। कहा कि मैंने रानू वर्मा की हत्या कर दी है।

इसके बाद मनावर पुलिस मौके पर पहुंची। फर्श पर शव खून से लथपथ हालत में पड़ा था। शरीर पर कई जगह चाकू के वार थे। एसडीओपी करणसिंह रावत ने बताया कि आरोपित, मृतका का पूर्व से परिचित था। उसका आना-जाना भी था। प्रेम-प्रसंग के चलते उसने हत्या की है। आरोपित ने खुद थाने आकर सरेंडर किया है। एसडीओपी ने बताया कि इस मामले में पूर्व में भी रानू थाने पर आई थी, लेकिन दोनों में सुलह होने के चलते प्रकरण दर्ज नहीं कराया गया था। वहीं एसएफएल अधिकारी पिंकी मेहरड़े ने बताया कि मृतका के शरीर पर गले, पेट, दोनों हाथों, पीठ सहित अन्य स्थानों पर कई बार चाकू से वार कि या गया है। मृतका के गले में रस्सी भी कसी हुई पाई गई है।

10 इंच तक के घाव
आरोपित ने बड़ी बेहरमी से प्रेमिका पर चाकू के करीब 22 से 25 वार किए। इससे करीब 10 इंच तक के घाव हो गए। डॉ. अखिलेश रावत ने बताया कि मृतका की गर्दन की नस भी कट गई थी। इसके चलते घटनास्थल पर ही उसकी मौत हो गई।

चीखने की आवाज आई तो दौड़े, दरवाजा बंद मिला

नर्मदा चौहान व रंजना मुवेल ने बताया कि सुबह 5 से 5:30 बजे के बीच पड़ोसी रानू की चीखने की आवाज सुनाई दी। तुरंत दौड़कर दरवाजा खटखटाया तो वह अंदर से बंद था। मकान मालिक चंदन वास्केल ने बताया कि दरवाजा नहीं खुला तो पुलिस को सूचना दी। पुलिस मकान का दरवाजा तोड़कर अंदर गई। देखा तो किरायेदार रानू का शव खून से लथपथ पड़ा था।
बेटी पर शादी का दबाव बनाया, मना किया तो हत्या करने का आरोप
रानू के पिता संतोष व भाई जितेंद्र ने बताया कि पिछले चार सालों से तीनों भाई-बहन इंदौर में रहकर एसआई परीक्षा की तैयारी कर रहे थे। इसी दौरान रानू का चयन जेल प्रहरी के रुप में हो गया। उसने मनावर उप जेल में ज्वाइन किया। आरोपित ने आकर मेरी बेटी पर शादी के लिए दबाव बनाया। इंकार करने पर उसकी हत्या कर दी। हमारी बेटी ने पूर्व में कभी भी उसका जिक्र नहीं किया था।

आरोपित को बाहर निकालने को लेकर परिजन का हंगामा

सूचना पर रानू का परिवार थाने पहुंच गया। पीएम के लिए शव को अस्पताल न ले जाते हुए परिजन उसे पुलिस थाने ले गए। आरोपित को बाहर निकालने की मांग को लेकर जमकर हंगामा किया। बाद में कुछ लोगों को बारी-बारी से आरोपित को दिखाने व एसडीओपी रावत की समझाइश के बाद परिजन माने व शव को अस्पताल ले गए।

हत्या के बाद बोला- गलती हो गई
उसने मुझे उकसाया था। मुझे कहा तुमसे शादी नहीं करना चाहती तो मैंने गुस्से में मार दिया। हत्या के बाद मैं खुद थाने पहुंच गया। वह किसी और से प्यार करती थी, लेकिन उसका दूसरा प्रेमी उससे शादी नहीं करना चाहता है। मैं 12 मार्च को मनावर आया था। सुरक्षा के लिए चाकू इंदौर से खरीदकर लाया था। चार दिन से रानू के रुम पर ही था। रानू ने एक माह पूर्व मनावर थाने में मेरी शिकायत भी की थी। साथ ही शिकायत में मेरे माता-पिता का भी झूठा नाम लिया था। (जैसा आरोपित ने नईदुनिया को बताया)

लव स्टोरी जो ट्राई एंगल की वजह से पहुंची मौत के अंजाम तक
आरोपित तेजू ने बताया कि मैं शहडोल में निजी फैक्ट्री में काम करता हूं। साल 2015 में व्हाट्सएप के जरिए रानू से पहचान हुई थी। जो धीरे-धीरे प्रेम प्रसंग में बदल गई। रानू गरीब परिवार की थी। इसलिए मैं नौकरी करते हुए रानू की पढ़ाई का खर्चा उठा रहा था। अक्टूबर में रानू की नौकरी लगने के बाद उसका नजरिया बदल गया। उसका प्रेम संबंध इंदौर के शैलेंद्र नामक युवक से हो गया। शैलेंद्र उससे शादी करना नहीं चाहता था। जब मैंने उससे शादी का कहा तो उसने मना कर दिया।