बीच रास्ते पति ने तोड़ा दम, पत्नी का रो-रो कर बुरा हाल, सामने आई रूह कंपा देने वाली तस्वीर

पूरे देश में लॉकडाउन के बाद आय का साधन खत्म होने के बाद लोग अपने-अपने घरों की ओर भाग रहे हैं। बीमारी में भी लोग इस वक्त अपने घरों की ओर रुख कर रहे हैं और अपना जीवन दाव पर लगा दे रहे हैं। इस क्रम में एक रूह कंपा देने वाली घटना उत्तर प्रदेश के सिकंदराऊ से प्रकाश में आई है।
कोरोना वायरस के जंग में देशव्यापी लॉकडाउन ने गरीब तबके और रोज कमाकर खाने वालों का जीना मुहाल कर दिया है। आय का साधन खत्म होने के बाद लोग अपने-अपने घरों की ओर भाग रहे हैं। बीमारी में भी लोग इस वक्त अपने घरों की ओर रुख कर रहे हैं और अपना जीवन दाव पर लगा दे रहे हैं। इस क्रम में एक रूह कंपा देने वाली घटना उत्तर प्रदेश के सिकंदराऊ से प्रकाश में आई है।

उत्तर प्रदेश के सिद्धार्थनगर का रहने वाला 32 वर्षीय विनोद तिवारी यहां दिल्ली में सेल्समैन था। लॉकडाउन के बाद जब उसकी नौकरी चली गई तो वह पत्नी और बच्चों के साथ घर के लिए निकल पड़ा। वह मोपेड से पत्नी बच्चों को लेकर घर जा रहा था। बता दें कि विनोद काफी दिनों से कैंसर से पीड़ित था, उसे मुंह का कैंसर था। घर जाते वक्त रास्ते में अचानक उसकी तबीयत बिगड़ गई। सिकंदाराराऊ के समीप उसने मोपेड रोक दी और सड़क पर ही लेट गया।

दूसरी मोपेड से विनोद का भाई भी साथ-साथ चल रहा था। भाई की तबीयत खराब होते देख उसने एंबुलेंस को बुलाया। भाई को आरोप है कि एंबुलेंस ने आने में एक घंटे लगा दिए। एंबुलेंस जब तक वहां पहुंचती विनोद की मौत हो चुकी थी। पति के शव के पास ही बैठी पत्नी का रो-रो कर बुरा हाल था। स्थानीय लोगों की मदद से विनोद के शव और उसके परिजनों को सिद्धार्थनगर भिजवाया गया।